Breaking News

S-1 बोगी में फॉल्ट से हुआ हादसा, झांसी में यात्री की शिकायत अफसर सुनते तो न जाती 150 की जान

the-cause-of-the-train-accidentकानपुर/लखनऊ/नई दिल्ली। यूपी के कानपुर में पटना-इंदौर एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने में रेलवे की भारी लापरवाही सामने आई है। प्रथमदृष्टया जांच में पता चला है कि पटरी की गड़बड़ी से नहीं बल्कि एस-1 बोगी में मैकेनिकल फॉल्ट के कारण एक-एक कर कुल 14 डिब्बे डिरेल हो गए। अगर रेलवे का संरक्षा विभाग ट्रेनों की बोगियों की मरम्मत को लेकर संजीदा रहता तो इतनी बड़ी दुर्घटना न होती। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने मेंबर रोलिंग स्टॉक को हादसे के लिए जिम्मेदार बोगी के तकनीकी कारणों की वहीं मेंबर इंजीनियरिंग को पटरियों की हालत की जांच कर 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट तलब की है। ताकि पता चल सके किस वजह से ट्रेन हादसा हुआ।

से उतरी। इस बोगी में सफर कर रहे एक यात्री को काफी समय से तेज झटका लगता महसूस हो रहा था। उसने झांसी स्टेशन पर शिकायत भी दर्ज कराई। मगर न तो स्टेशन मास्टर ने और न ही गार्ड ने इस पर ध्यान दिया। ट्रेन उसी हालत में आगे बढ़ गई, और नतीजा बडे़ हादसे के रूप में सामने आया। अगर यात्री की शिकायत सुनकर तत्काल बोगी की मरम्मत होती तो दुर्घटना को रोका जा सकता है।

रेलवे सूत्रों का कहना है कि अभी इतनी ठंड नहीं हो रही है कि पटरियों के सिकुड़ने से डिब्बों के उतरने की नौबत आ जाए। अब तो फिश प्लेट की जगह नई टेक्नोलॉजी भी इस्तेमाल में आ गई है। ऐसे में पटरियों की गड़बड़ी के कारण कानपुर के पुखरायन इलाके में हादसे की आशंका कम ही है।

Loading...

ट्रेन की बोगियों की देखरेख करने वाले मेंबर रोलिंग स्टॉक से जुड़े सूत्रों ने इंडिया संवाद को बताया कि अगर हादसा पटरियों की फॉल्ट से नहीं हुआ है तो फिर बोगियों के मैकेनिकल फॉल्ट से हुआ होगा। मसलन बोगी का एक्सल टूटा होगा या फिर पहिए फॉल्ट का शिकार हुए होंगे। या फिर बेयरिंग सीज होने से टूट गई होगी।

रेलवे की पूरी व्यवस्था चलाने के लिए सात सदस्यीय शीर्ष कमेटी होती है। जिसे रेलवे बोर्ड के नाम से जानते हैं। इस बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने तकनीकी गड़बड़ी की वजह से ट्रेन के हादसे के कारणों की जांच के लिए विशेषज्ञों की कमेटी गठित कर दी है। 24 घंटे के भीतर जांच रिपोर्ट देने को कहा गया है।  रोलिंग स्टॉक घटनास्थल पर पहुंच चुका है और कानपुर तथा झांसी के बीच ट्रेन के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारणों की छानबीन शुरू हो गई है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *