Breaking News

बर्खास्त शिवपाल का रामगोपाल पर हमला, कहा-CBI से बचने के लिए BJP से मिल गए

shivpal-ramgopalलखनऊ। यूपी के सीएम अखिलेश यादव द्वारा कैबिनेट से बर्खास्त किए गए एसपी प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव पर हमला बोला है।शिवपाल ने रामगोपाल का सीधे तौर पर नाम तो नहीं लिया, लेकिन इशारों में कहा कि पार्टी का एक नेता सीबीआई से बचने के लिए बीजेपी से मिल गया। बता दें कि रामगोपाल यादव के बेटे का नाम यूपी के दागी इंजीनियर यादव सिंह से जुड़े भ्रष्टाचार के मामले में आ चुका है।

रविवार सुबह शिवपाल और अन्य मंत्रियों की बर्खास्तगी के बाद समर्थकों की काफी भीड़ शिवपाल के घर और समाजवादी पार्टी के दफ्तर के बाहर इकट्ठी हो गई थी। शिवपाल ने भीड़ को आकर शांत कराना चाहा। काफी शोर शराबे के बीच शिवपाल ने आरोप लगाया कि रामगोपाल समाजवादी पार्टी को तोड़ना चाहते हैं। शिवपाल के मुताबिक, पार्टी के एक बड़े नेता तीन बार बीजेपी के सीनियर नेता से मिले और अपने परिवार के सदस्यों को बचाने के लिए बीजेपी से साठगांठ कर लिया।

शिवपाल ने यह भी आरोप लगाया कि पूरी साजिश रामगोपाल ने रची और अखिलेश को इसमें फंसा दिया। शिवपाल ने कहा, ‘सीबीआई से बचने के लिए कुछ लोग बीजेपी से मिलकर पार्टी को कमजोर कर रहे हैं। सीएम यह बात नहीं समझ रहे।’ शिवपाल ने आगे कहा, ‘पिछले चुनाव में भी नेताजी के नाम पर ही चुनाव लड़ा गया था। इस बार भी नेताजी की अगुआई में ही चुनाव लड़ेंगे। बर्खास्तगी की चिंता नहीं है। चुनाव में जाएंगे। नेताजी ने मेहनत से पार्टी खड़ी की है, उनके नेतृत्व में चुनाव में जाएंगे।’

Loading...

बता दें कि रामगोपाल यादव ने लेटर लिखकर न केवल अखिलेश का समर्थन किया बल्कि उनके विरोधियों पर भी निशाना साधा था। रामगोपाल ने कहा था कि अखिलेश के विरोधी इस बार विधानसभा का मुंह नहीं देख पाएंगे। रामगोपाल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अखिलेश का साथ देने की अपील की थी। बताया जा रहा है कि इस लेटर की वजह से मुलायम भी रामगोपाल से नाराज हैं। ताजा संकट पर पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने वरिष्ठ नेताओं के साथ रविवार सुबह बैठक की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बैठक में राय बनी कि मुलायम अखिलेश को बर्खास्त कर खुद सीएम बन जाएं। हालांकि, आखिरी फैसला मुलायम ही करेंगे।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *