Breaking News

विलियमसन की कप्तानी पारी, 13 साल बाद जीता न्यू जीलैंड

newनई दिल्ली। अंतिम ओवरों में हार्दिक पंड्या की शानदार बल्लेबाजी भी भारत को जीत नहीं दिला पाई और आखिर न्यू जीलैंड को अपने भारत दौरे पर पहली जीत मिल ही गई। दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर न्यू जीलैंड ने भारत को 6 रनों से हरा दिया। 13 वर्षों में यह न्यू जीलैंड की भारतीय जमीन पर यह पहली जीत है।

कीवी कप्तान केन विलियमसन ने शानदार शतक लगाकर अपनी टीम की जीत की आधार रखी। भारत के लिए केदार जाधव ने सबसे ज्यादा 41 और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 39 रन बनाए। टिम साउदी ने 3, मार्टिन गप्टिल और ट्रेंट बोल्ट ने दो-दो विकेट लिए। मिशेल सेंटनर और मैट हेनरी को 1-1 विकेट मिया। 5 मैचों की सीरीज अब 1-1 से बराबर हो गई है। भारत ने धर्मशाला में खेला गया पहला वनडे 6 विकेट से जीता था। अगला वनडे 23 अक्टूबर को मोहाली में खेला जाएगा।

243 रनों का लक्ष्य यूं तो वनडे में बड़ा नहीं था लेकिन न्यू जीलैंड ने अपनी शानदार गेंदबाजी और फील्डिंग के दम पर भारत के लिए इसे असंभव बना दिया। दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर भारतीय बल्लेबाजी ज्यादातर वक्त बिखरी नजर आई। जाधव और धोनी की साझेदारी ने एक वक्त उम्मीद जगाई पर उनके आउट होते ही भारत की हार लगभग तय होती नजर आने लगी।

कीवी गेंदबाजों ने कसी हुई शुरुआत की। रोहित शर्मा और अंजिक्य रहाणे की जोड़ी मेट हेनरी और ट्रेंट बोल्ट की गेंदों पर खुलकर नहीं खेल पाए। भारत को पहला झटका 8वें ओवर की पहली गेंद पर रोहित शर्मा के रूप में लगा जब ट्रेंट बोल्ट की एक बाहर जाती गेंद पर बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में विकेटकीपर ल्यूक रोंकी को कैच थमा बैठे।

रहाणे का साथ देने आए विराट कोहली ने एक चौका लगाकर भारतीय खेमे में उम्मीद जताई। प्रशंसकों को उम्मीद थी कि कोहली अपने घरेलू मैदान पर भारत को जीत दिलाएंगे मगर यह नहीं हो सका। लेफ्ट आर्म स्पिनर मिशेल सेंटनर की लेग स्टंप से बाहर जाती गेंद पर कोहली बल्ला अड़ा बैठे और रोंची ने अच्छा कैच पकड़ा। कोहली ने 13 गेंदों पर केवल 9 रन बनाए। रहाणे और मनीष पांडे ने मिलकर तीसरे विकेट के लिए 32 रन जोड़े। टीम का स्कोर जब 72 रन था तब रहाणे खुद पर काबू नहीं रख पाए और टिम साउथी की गेंद पर पुल करने के प्रयास में लेग साइड बाउंड्री पर खड़े कोरी एंडरसन को कैच थमा बैठे। अपनी 49 गेंदों की पारी मे रहाणे ने तीन चौकों की मदद से 28 रन बनाए। भारत की पारी तब और संकट में आ गई जब स्कोर में एक रन और जोड़कर मनीष पांडे रन आउट हो गए। पांडे ने 25 गेंदों पर एक छक्के की मदद से 19 रन बनाए।

भारत अब 4 विकेट पर खो चुका था और स्कोर था महज 73 रन। यहां से कप्तान धोनी का साथ देने आए केदार जाधव। जाधव पिछली बार जिम्बाब्वे दौरे पर भारतीय टीम के साथ थे। वहां उन्होंने शानदार शतक लगाया था। यहां भी वह अच्छी लय में नजर आए। उन्होंने कीवी गेंदबाजों और फील्डर्स को छकाए रखा। उन्होंने धोनी के साथ मिलकर पांचवें विकेट के लिए 66 रन जोड़े। जाधव ने अपनी पारी में दो चौके और सेंटनर की गेंदों पर दो छक्के भी लगाए। यह साझेदारी भारतीय पारी को पटरी पर लाती नजर आ रही थी कि तभी 139 के स्कोर पर जाधव मेट हेनरी की एक गेंद को विकेटकीपर के पास के खेलने के असफल प्रयास में आउट गए। जाधव ने 37 गेंदों पर 41 रन बनाए। मैदान पर ओस के कारण कीवी गेंदबाजों विशेषकर स्पिनर्स के लिए बोलिंग करना आसान नहीं था लेकिन कीवी कप्तान ने अपने गेंदबाजों का अच्छा मिश्रण किया। उनके गेंदबाजों ने गति और लेंथ का अच्छा उपयोग किया।

भारतीय कप्तान धोनी जो आज बड़ी पारी खेलने के मूड में लग रहे थे लेकिन टिम साउदी ने अपनी गेंद पर धोनी का शानदार कैच लपककर भारतीय उम्मीदों को करारा झटका दिया। धोनी गेंद को मिडऑन पर खेलकर एक रन चुराना चाहते थे लेकिन गेंद रुककर आई और साउदी ने कैच लपकने में कोई गलती नहीं की। धोनी 65 गेंदों पर 39 रन बनाकर आउट हो गए। अब दारोमदार अक्षर पटेल और हार्दिक पंड्या के कंधों पर था। लेकिन यह साझेदारी भी ज्यादा नहीं चली। अक्षर पटेल मार्टिन गप्टिल की एक फुलटॉस को लॉन्ग ऑन पर खड़े सेंटनर को कैच थमा बैठे। पार्ट टाइम बोलर गप्टिल ने अपने इसी ओवर में अमित मिश्रा को ब्रेसवेल (सबस्टिट्यूट) के हाथों कैच करा दिया। भारत के लिए यहां से वापसी की कोई उम्मीद नहीं थी।

Loading...

लेकिन युवा ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने उमेश यादव के साथ मिलकर 9वें विकेट के लिए 49 रन जोड़कर भारतीय उम्मीदों को जिंदा रखा। रनगति बढ़ाने के प्रयास में पंड्या 49वें ओवर में आउट हुए। उन्होंने 32 गेंदों पर 36 रनों की भागीदारी की। आखिरी ओवर में भारत को 10 रन चाहिए थे लेकिन टिम साउदी ने बुमराह को बोल्ड कर अपनी टीम को दौरे पर पहली जीत दिलाई।

इससे पहले भारत ने भारत ने गेंदबाजों के धारदार प्रदर्शन के बल पर न्यू जीलैंड को 242 रनों पर रोक लिया। टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी किवी टीम कप्तान केन विलियमसन (118) के शतक के बावजूद निर्धारित 50 ओवरों में नौ विकेट के नुकसान पर 242 ही बना सकी।

विलियमसन ने अपनी शतकीय पारी में 128 गेंदों का सामना किया और 14 चौके और एक छक्का लगाया। उन्हें लेग स्पिनर अमित मिश्रा ने अजिंक्य रहाणे के हाथों कैच कराया। कप्तान के अलावा पहले मैच में अर्धशतक बनाने वाले सलामी बल्लेबाज टॉम लाथम ने 46 रनों का योगदान दिया। काम चलाऊ स्पिनर केदार जाधव की गेंद पर पगबाधा करार दिए गए।

मार्टिन गप्टिल (0) का विकेट मैच की दूसरी गेंद पर गिर जाने के बाद विलियमसन और लाथम ने दूसरे विकेट के लिए 120 रनों की साझेदारी की। भारतीय गेंदबाजों ने लेकिन आखिरी ओवरों में बेहद कसी हुई गेंदबाजी की और किवी टीम को आखिरी के 10 ओवरों में सिर्फ 40 रन जुटाने का अवसर दिया। इस दौरान उन्होंने किवी टीम के छह विकेट भी चटकाए।

अंतिम ओवरों में भारतीय गेंदबाजों ने लगातार विकेट लेकर मेहमानों को बड़े लक्ष्य तक पहुंचने से रोक दिया। किवी टीम के मिशेल सेंटनर नौ और ट्रेंट बाउल्ट पांच रन पर नाबाद लौटे। भारत की तरफ से मिश्रा और जसप्रीत बुमराह ने सर्वाधिक तीन-तीन सफलताएं हासिल कीं। अक्षर पटेल, उमेश यादव और जाधव एक-एक विकेट लेने में सफल रहे।

इससे पहले भारत ने टॉस जीतकर फील्डिंग का फैसला किया। भारतीय टीम में कोई बदलाव नहीं किया गया, जबकि न्यू जीलैंड ने तीन बदलाव करते हुए डग ब्रासवेल, जिमी नीशाम और ईश सोढी की जगह ट्रेंट बोल्ट, मैट हेनरी और एंटोन डेवसिच को उतारा। पहले वनडे में न्यू जीलैंड को करारी हार का सामना करना पड़ा था।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *