Breaking News

अमरमणि के कातिल बेटे को लेकर अखिलेश और शिवपाल में ठनी

shivpal-yadavलखनऊ।  यूपी के पूर्वांचल के डॉन मुख्तार अंसारी के बाद अब कातिलों के कातिल और शार्प शूटर से मंत्री बने कवियत्री मधुमिता हत्याकांड में जेल कि सजा काट रहे अमरमणि त्रिपाठी के बेटे अमनमणि त्रिपाठी को समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल ने महाराजगंज की नौतनवां सीट से प्रत्याशी बनाकर फिर से अपने भतीजे सीएम अखिलेश के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. परिवार में मची इस घमासान को लेकर पिछले एक महीने से उदास अखिलेश भीतर ही भीतर घुट रहे बताये जाते हैं.

सूत्रों के मुताबिक सीएम अखिलेश इस बात को लेकर हैरान हैं कि चाचा उन्हें इतना जलील क्यों कर रहे हैं. यही नहीं चाचा शिवपाल ने उनके पिता के भी कान फूंक कर मुलायम को भी उनसे जुदा कर दिया है. परिवार में मची इस घमासान को लेकर अखिलेश अपने दांत पीसकर अपने आपको रोक रहे हैं. उनके करीबी साथियों कि मानें तो अखिलेश चाचा शिवपाल से बहुत नाराज हैं, लेकिन समय उनके विपरीत होने के कारण वह चाहकर भी उनसे इसलिए कुछ नहीं बोल पा रहे हैं कि ऐसी घडी में मुलायम ने भी उनका साथ छोड़ दिया है.

पार्टी सूत्रों के मुताबिक सपा के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद शिवपाल के तेवर ही बदल गए हैं. उन्होंने सोमवार को नौ विधानसभा क्षेत्रों में उम्मीदवार घोषित कर दिए जबकि17 क्षेत्रों के उम्मीदवार बदल दिए. मालूम हो कि सपा ने अब तक हारी हुई सीटों पर 172 उम्मीदवार घोषित किये थे. सोमवार को शिवपाल द्वारा नौ और क्षेत्रों के उम्मीदवार घोषित होने के बाद अब यह संख्या 181 हो गयी है.

सोमवार को जारी सूची के मुताबिक सहारनपुर के नकुड़ क्षेत्र से मोहम्मद इरशाद, बहराइच की नानपारा से जयशंकर सिंह और पयागपुर से मुकेश श्रीवास्तव, महराजगंज के नौतनवां से अमनमणि त्रिपाठी, सोनभद्र के ओबरा से संजय यादव, बुलंदशहर के डिबाई से हरीश लोधी, हरदोई के गोपामऊ सुरक्षित से राजेश्वरी और सांडी से ऊषा वर्मा तथा अंबेडकरनगर के जलालपुर से सुभाष राय को उम्मीदवार घोषित किया है. बताया जाता है कि इन प्रत्याशियों कि सूचि घोषित किये जाने से पहले चाचा शिवपाल ने अपने सीएम भतीजे से एक बार भी इस बाबत सलाह लेनी उचित नहीं समझी. जिसके चलते अखिलेश उनसे नाराज हैं.

Loading...

बताया जाता है कि जिन 17 विधानसभा क्षेत्रों में पूर्व में घोषित उम्मीदवारों की जगह नये उम्मीदवार घोषित किये गये हैं उनमें सहारनपुर की रामपुर मनिहारन से विमला राकेश की जगह जसवीर बाल्मिकी, शामली के थाना भवन से किरनपाल कश्यप की जगह शेर सिंह राणा, मुजफ्फरनगर के मीरापुर से मोहम्मद इलियास की जगह शाहनवाज राणा, बिजनौर के नजीबाबाद से अबरार आलम अंसारी की जगह तस्लीम अहमद, मेरठ के सरधना में अतुल प्रधान की जगह मैनपाल सिंह उर्फ पिंटू राणा, मेरठ कैंट से सरदार परविंदर सिंह की जगह आरती अग्रवाल, मेरठ शहर से रफीक अंसारी की जगह अय्यूब अंसारी शामिल है.

इसी तरह बुलंदशहर के खुर्जा क्षेत्र से सुनीता चौहान की जगह रवीन्द्र बाल्मिकी, हाथरस सुरक्षित से राम नारायण काके की जगह मूलचंद्र जाटव, आगरा के फतेहपुर सीकरी से राजकुमार चाहर की जगह श्रीनिवास शर्मा, खैरागढ़ से विनोद कुमार सिकरवार की जगह रानी पक्षालिका सिंह, रायबरेली के जगदीशपुर सुरक्षित विजय कुमार पासी की जगह अवधेश प्रसाद के पुत्र अजीत प्रसाद, कानपुर देहात के सिकंदरा से महेन्द्र कटियार की जगह सीमा सचान, ललितपुर से ज्योति लोधी की जगह चंद्रभूषण सिंह बुंदेला उर्फ गुडडू राजा, कौशांबी के चायल से चंद्रबलि सिंह पटेल की जगह बालम द्विवेदी, मीरजापुर के मडि़हान से रविन्द्र बहादुर सिंह पटेल की जगह सुरेन्द्र सिंह पटेल और वाराणसी के शिवपुर से अरविन्द कुमार मौर्य की जगह अवधेश पाठक को उम्मीदवार घोषित किया है. समाजवादी पाटी ने 2012 के चुनाव में 224 सीटें जीती थीं. सपा ने अपनी सभी हारी हुई सीटों पर उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं. दल छोडऩे वाले श्रीभगवान शर्मा उर्फ गुडडू पंडित की डिबाई सीट पर भी उम्मीदवार घोषित किया है.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *