Breaking News

जोकोविच ने मर्रे को हराकर छठा ऑस्ट्रेलियाई ओपन खिताब जीता

djokovicमेलबर्न। विश्व के नंबर एक खिलाड़ी नोवाक जोकोविच ने ऐंडी मर्रे को सीधे सेटों में हराकर छठी बार ऑस्ट्रेलियाई ओपन टेनिस टूर्नामेंट के पुरुष एकल का खिताब अपने नाम कर लिया। इस जीत के साथ ही जोकोविच ने 6 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन जीतने के रिकॉर्ड की बराबरी भी कर ली।

सर्बिया के विश्व के नंबर एक खिलाड़ी ने मेलबर्न पार्क पर खेले गए फाइनल में मर्रे को दो घंटे 53 मिनट तक चले मैच में 6-1, 7-5, 7-6 से मात दी। मर्रे की यह इस टूर्नामेंट के फाइनल में यह पांचवीं हार है और इनमें से चार बार उन्हें जोकोविच ने ही हराया है।

हालांकि जोकोविच को अपने पहले ही सर्विस गेम में ब्रेक पॉइंट का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद उन्होंने लय हासिल की और दो बार मर्रे की सर्विस तोड़कर 30 मिनट में पहला सेट अपने नाम कर लिया।

वहीं दूसरे सेट का तीसरा गेम 12 मिनट तक चला जिसमें मर्रे ने चार ब्रेक पॉइंट बचाए लेकिन जोकोविच ने जल्द ही 4-3 से बढ़त हासिल कर ली। इसके बाद नौवें गेम में दोनों खिलाड़ियों के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिला लेकिन जोकोविच ने 0-40 से वापसी करके चौथी बार मर्रे की सर्विस तोड़ी और 6-5 से बढ़त बनाई।

इसके बाद उन्होंने अपनी सर्विस बचाकर दो सेट से बढ़त बना ली। तीसरे सेट में दोनों खिलाड़ियों ने एक दूसरे को कड़ी टक्कर जरूर दी और यह सेट टाईब्रेकर तक भी गया जिसमें जोकोविच ने 7-3 से जीत दर्ज कर ली।

Loading...

इस जीत के साथ जोकोविच ने ऑस्ट्रेलिया के रॉय इमर्सन के रिकॉर्ड की बराबरी की जिन्होंने 1961 से 1967 के बीच छह खिताब जीते थे। पिछले 49 साल से उनके इस रिकॉर्ड को कोई छू भी नहीं पाया था। यह जोकोविच का 11वां ग्रैंडस्लैम खिताब है और वह रॉड लीवर और ब्यॉर्न बॉर्ग की बराबरी पर पहुंच गए हैं। हालांकि कुल ग्रैंड स्लैम जीतने के मामले में वह रोजर फेडरर से काफी पीछे हैं जिनके नाम पर रिकॉर्ड 17 ग्रैंडस्लैम खिताब दर्ज हैं।

जोकोविच ने जीत के बाद मर्रे की प्रशंसा की। उन्होंने कहा, ‘आज की रात आपके लिए नहीं थी ऐंडी। आप वास्तव में चैंपियन हैं। आप मेरे बहुत अच्छे दोस्त और बहुत अच्छे इंसान हैं। ऐंडी बेहद पेशेवर और इस खेल के प्रति समर्पित हैं और इसलिए मुझे पूरा विश्वास है कि भविष्य में इस ट्रॉफी के लिए खेलने के आपको अधिक मौके मिलेंगे।’

उल्लेखनीय है कि जोकोविच ने साल 2008 में जो विल्फ्रेड सोंगा को हराकर अपना पहला बड़ा खिताब जीता था और इसके बाद उन्होंने मेलबर्न में अपना दबदबा बनाया। साल 2012 के फाइनल में उन्होंने राफेल नडाल को मात दी और इसके अलावा 2011, 2013, 2015 और अब 2016 में मर्रे को हराकर ऑस्ट्रेलियन ओपन के चैंपियन बने।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *