Breaking News

पठानकोट असर: अमेरिका ने पाकिस्तान से रोकी F-16 डील

f-16-1वॉशिंगटन। अमेरिकी कांग्रेस ने पाकिस्तान से आठ F-16 जेट्स बेचने का प्लान टाल दिया है। पाकिस्तानी न्यूजपेपर डॉन ने मंगलवार को कांग्रेनल और डिप्लोमैटिक सूत्रों के हवाले यह खबर छापी है। पाकिस्तान को अमेरिका द्वारा F-16 फ्लाइट देने को लेकर चिंता व्यक्त की जा रही थी। अमेरिकी सांसदों ने इस मामले में नोटिस के जरिए इस मामले में सफाई और जानकारी देने की मांग की थी। इन्होंने पाकिस्तान को एयरक्राफ्ट देने में जल्दबाजी नहीं दिखाने को कहा था।

डॉन के मुताबिक ओबामा प्रशासन को भी सिनेट की तरफ से पाकिस्तान के साथ होने वाली इस डील को रोकने का नोटिस मिला था। डॉन की रिपोर्ट में कहा गया है, ‘हालांकि पाकिस्तान के साथ F-16 की डील में केवल देरी की गई है। यदि ओबामा प्रशासन इस डील पर आगे बढ़ता है तो कोई अड़चन की आशंका नहीं है।’

अमेरिकी सांसद पठानकोट में आतंकी हमले को लेकर ओबामा प्रशासन पर हमलावर दिख रहे थे। इन्होंने कहा था कि पाकिस्तान को पहले पठानकोट में हमले कराने वालों पर कार्रवाई करनी चाहिए। भारतीय खुफिया एजेंसियों के मुताबिक पठानकोट में हमले की रणनीति पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन ने बनाई थी। भारत का कहना है कि पाकिस्तान ने मुंबई में आतंकी हमले को लेकर भी ठोस कार्रवाई नहीं की थी।एक भारतीय प्रवक्ता ने कहा, ‘पाकिस्तान ने सार्वजनिक रूप से कहा है कि वह इस मामले में जांच कराने जा रहा है। उसने सार्वजनिक रूप से यह भी कहा है कि आतंकी ग्रुपों के बीच वह अंतर नहीं करेगा। अब हमलोग चाहते हैं कि पाकिस्तान इन मामलों में ठोस कार्रवाई करे।’

अमेरिकी सरकार के अधिकारियों ने कहा कि वे पाकिस्तान से इस मामले में लगातार संपर्क में हैं। उन्होंने कहा कि पठानकोट में अटैक और अफगानिस्तान के मजार-ए-शरीफ में भारतीय वाणिज्य दूतावास पर हमले को लेकर पाकिस्तान के साथ संपर्क में हैं। अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान इन मामलों में ठोक ऐक्शन ले। अमेरिका ने कहा कि पाकिस्तान और भारत में मधुर रिश्तों के लिए यह बहुत जरूरी है।

Loading...

पठानकोट में आतंकी हमले के बाद अमेरिकी सांसदों ने खुलकर भारत का समर्थन किया है। इन सांसदों ने दो टूक कहा है कि पठानकोट मामले में जब तक पाकिस्तान ईमानदारी से ऐक्शन नहीं लेता है तब तक उसे कोई मिलिटरी मदद अमेरिका की तरफ से नहीं मिलनी चाहिए। एक अमेरिकी अधिकारी ने कहा, ‘हमलोग इस चुनौतीपूर्ण समय को समझते हैं। यह जटिल संबंध है। हम पाकिस्तान की सभी चीजों से सहमत नहीं हो सकते। हम चाहते हैं वह शब्दों से आगे निकल ईमानदारी से ऐक्शन ले।’

अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक अमेरिकी सराकार को रिपब्लिकन नियंत्रण वाले कांग्रेस से पाकिस्तान के लिए F-16 का अप्रूवल कराना बहुच कठिन है। रिपब्लिकन और डेमोक्रेट्स के 20 से ज्यादा सांसदों ने इंडिया का खुलकर समर्थन किया है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *