Saturday , November 28 2020
Breaking News

जी-20 समिट में पीएम मोदी ने पेश किया ग्रोथ का अजेंडा, ओबामा का किया ‘गुणगान’

pm-modiनई दिल्ली। चीन के हांगचौ में जी-20 समिट को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को वैश्विक आर्थिक ग्रोथ को बढ़ाने के लिए संरचनात्मक सुधार का अजेंडा पेश किया। पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया में आर्थिक सुधारों के लिए अधिक बिना किसी अवरोध के समानता वाली व्यवस्था स्थापित किए जाने की वकालत की, जिसमें डिजिटल गैप खत्म किया जा सके और स्किल डिवेलपमेंट को बढ़ावा मिले। चीन के हांगचौ शहर में रविवार से जी-20 देशों का दो दिवसीय सम्मेलन शुरू हुआ है। इस दौरान मोदी ने दुनिया में ग्रोथ और सुधार के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रयासों की जमकर सराहना भी की।

पीएम मोदी ने कहा, ‘हम ऐसे समय में मिल रहे हैं, जब विश्व राजनीतिक और आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रहा है।’ मोदी ने कहा कि इस मामले में खुली और कठिन वार्ता करना भी कोई समाधान नहीं होगा। जी-20 देशों को कलेक्टिव, कॉर्डिनेटिड और टारगेटेड ऐक्शन की जरूरत है। पीएम मोदी ने इसके लिए अपनी सरकार की ओर से देश की ग्रोथ को बढ़ाने के लिए किए गए कुछ उपायों की भी चर्चा की।

 पीएम मोदी ने कहा कि हमारा लक्ष्य वित्तीय व्यवस्था में सुधार, घरेलू उत्पादन में इजाफा, इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार और मानव संसाधन का विकास करना है। दुनिया की 20 ताकतवर अर्थव्यवस्थाओं को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि हमें निर्णायक कदम उठाने होंगे ताकि ग्लोबल इकॉनमी रफ्तार पकड़ सके और पूरी दुनिया को इसका लाभ मिले। मोदी ने कहा, ‘हमारी चुनौतियां साझा हैं। इसी तरह हमारे अवसर भी समान हैं। डिजिटल क्रांति और नई तकनीकों के जरिए वैश्विक ग्रोथ की नींव रखी जाएगी।’

Loading...

मोदी ने कहा कि जी-20 देश इकॉनमी की ग्रोथ के लिए जो कदम उठा सकते हैं, उनमें डिजिटल तकनीक तक आसान पहुंच, डिजिटल गैप को खत्म करना, नई तकनीकी के विकास की बाधाएं खत्म करना, स्किल डिवेलपमेंट को बढ़ावा और स्किल्ड प्रफेशनल्स के पूरी दुनिया में मूवमेंट को आसान करना शामिल हैं। पीएम मोदी ने पूंजी के प्रवाह को भी सरल बनाने की वकालत की।

पीएम मोदी ने इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने बीते 7 सालों में ग्लोबल पार्टनरशिप बनाने के लिए काफी प्रयास किए हैं। मोदी ने कहा कि बराक ओबामा लगातार दुनिया के ताकतवर देशों की ओर से कलेक्टिव ऐक्शन लिए जाने के पक्षधर हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *