Friday , November 27 2020
Breaking News

बेड पर पत्नी के साथ बेहतरीन परफॉर्मेंस के लिए अपनाएं ये उपाय (डॉक्टर की सलाह)

डॉक्‍टर साहब मैं पत्‍नी के साथ बिस्‍तर पर जाता तो बहुत उत्‍साह से हूं लेकिन देर तक टिक नहीं पाता। कुछ ही देर में मेरा लिंग शिथिल पड़ जाता है। कई बार तो सेक्‍स करने से पहले ही वीर्य स्‍खलन से पहले ही सब कुछ समाप्‍त हो जाता है। क्‍या करूं, कोई उपाय बताएं। -विनय गुप्‍ता, अलीगढ़

आपका उत्‍साह देखकर लगता है कि आपमें अभी सेक्‍स जीवन की चाहत बरकरार है लेकिन आप उसका ढंग से आनंद नहीं ले पा रहे। आपको जांच करानी चाहिए कि आपको कहीं अन्‍य कोई बीमारी तो नहीं। खैर, बीमारी कोई भी अब चिकित्‍सा विज्ञान ने इतनी तरक्‍की कर ली है कि सबका निदान मौजूद है। बस, बीमारी का सही पता चलने की जरूरत है। आप व्‍यक्तिगत रूप से संपर्क करें। पूरी तरह जांच के बाद आपको निदान बताया जाएगा।सेक्‍सडॉक्‍टर साहब, मेरी उम्र 45 साल है। पिछले कुछ दिनों से सेक्‍स ड्राइव के दौरान जब लिंग योनि में प्रवेश कर रहा होता है तो उसमें असहनीय जलन होती है। इसलिए अब बहुत कम समय के लिए मैथुन क्रिया का आनंद ले पाता हूं। मार्गदर्शन करें। हितेशभाई शाह, अहमदाबाद

कई बार काफी दिनों बाद सेक्‍स संबंध स्‍थापित करने के कारण भी योनि अथवा लिंग में जलन महसूस होती है तो कई बार यह संक्रमण का नतीजा होता है। आप अपनी समस्‍या विस्‍तार से बताएं। समाधान मौजूद हैं। चिंता न करें।

मैं अलग-अलग कई लोगों के साथ सेक्स कर चुकी हूं। मुझे चिंता है कि इससे कहीं किसी तरह का गुप्‍त रोग न लग गया हो। मुझे क्या करना चाहिये ? क्या मेरी चिंता सही है या केवल वहम है। -रुबीना खान, हैदराबाद

अलग-अलग लोगो से सेक्स करने से यौन रोगों का खतरा तो रहता ही है। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि सेक्‍स के दौरान आपने किस तरह के प्रिकाशन का ध्‍यान रखा। आपको चिकित्‍सक से परामर्श कर टेस्‍ट करा लेने चाहिए। यदि किसी तरह की परेशानी सामने आती है तो होम्‍योपैथी विधा से उपचार करना श्रेयष्‍कर रहेगा। लाभ मिलेगा।

मेरे बच्चे को अंगूठा चूसने की आदत है। अब यह सात वर्ष का हो गया है। पर अब भी अंगूठा चूसता है। कृपया कुछ ऐसा समाधान बतायें, जिससे इसकी यह आदत छूट सके। अजय कुमार गुप्ता, बाराबंकी

वैसे तो शिशुओं का अंगूठा चूसना एक स्वाभाविक क्रिया है। पर इस उम्र तक आने के बावजूद भी बच्चे को अंगूठा चूसने माँ-बाप की लापरवाही तथा जरूरत से ज्यादा दुलार करने का नतीजा है। इस उम्र तक अंगूठा चूसने का दुष्प्रभाव बच्चों के मस्तिष्क के नाजुक तंतुओं पर पड़ता है। मुंह में अंगूठा जाते ही बच्चे अपने आप में मस्त हो जाते है, और इनका सारा ध्यान अंगूठा चूसने की ओर केन्द्रित हो जाता है, जिससे यह अन्य बातों के प्रति पर्याप्त जागरूक व संवेदनशील नहीं रह जाते है और प्रव्रत्ति उनके मानसिक विकास में बाधक होती है । बच्चे पर हमेशा नजर रखें। उसे प्रेम से समझायें और इसे किसी न किसी चीज में व्यस्त रखने की कोशिश करें। आदत की कोई दवा नहीं होती।

मुझे अक्सर कब्ज और एसिडिटी की शिकायत रहती है। सीने में जलन, खाने में अरुचि और खाली पेट से परेशानी होती है। मैं काफी दिनों से परेशान हूँ। कृपया समाधान बतायें। – वंशलाल, बहराइच

Loading...
इस परेशानी का कारण पेट का अल्सर हो सकता है। आप इसकी पूरी जांच करवायें। खाने में तली-भुनी चीजों का परहेज करें। काफी, चाय या गरम चीजों का परहेज करें। पानी खूब पियें, फल और सलाद का प्रयोग करें। Acetic Acid 30, Crotelus 30 दो-दो गोली दिन में तीन बार कुछ दिनों तक लगातार लें।

लगभग चार वर्षों से मेरी पत्नी के मसूड़ों में सूजन रहती है। मसूढ़ों से खून, मवाद और बदबू काफी आती है। मुंह में अक्सर छालें भी निकला करते हैं। पारिवारिक जीवन दुखमय हो चला हैं। कृपया मार्ग दर्शन दें। – दीपक मिश्रा, रायबरेली

पत्नी की यह बीमारी पायरिया से संबन्धित है। यह बीमारी कठिन तो है पर बिलकुल असाध्य भी नहीं। Heklava 3x दो-दो गोली दिन में तीन बार Cal R. 3x दो-दो गोली तीन बार तीन महीने तक लें।

मेरी पत्‍नी गर्भ से है। दो साल से मैं बहुत परेशान था। कई जगह दवाइयां कीं लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। डॉक्‍टर साहब मैं आपका अहसान उम्र भर नहीं भूलूंगा। आपके परामर्श और उपचार से अब मैं जल्‍द ही पिता बन सकूंगा। -राकेश मिश्रा, कानपुर

आपके जीवन नई खुशियों का संचार होना ही मेरी सफलता है। यकीन मानिए जितनी खुशी आपको हो रही है उतनी ही मुझे भी। आखिर आप जैसे जरूरतमंद लोगों की खुशी के खातिर ही मैंने इस पेशे का वरण किया है।

डॉक्‍टर साहब, अब मुझे उन चार दिनों में उतनी परेशानी नहीं होती जितनी पहले होती थी। इसके लिए मैं जितना आपका सत्‍कार करूं कम है। पहले मासिक धर्म के दौरान सेक्‍स में असहनीय पीड़ा होती थी लेकिन अब सब कुछ बहुत आसानी से हो जाता है। बहुत बहुत आभार। -नयनतारा, कोलकाता

-नयनतारा जी, इसमें आभार की जरूरत नहीं। बस, इतना करें कि आप जैसी पीड़ा से गुजर रही अन्‍य महिलाओं का भी उचित मार्गदर्शन करें। लोग अभी तक इस तथ्‍य से अनभिज्ञ हैं कि यौन रोगों का होम्‍यापैथी में कोई सटीक उपचार है। उन्‍हें परिचित कराएं और स्‍वयं की तरह लाभान्वित होने दें। यही सच्‍चा आभार है।

आप अपने सवाल इस मेल एड्रेस पर भेज सकते हैं-  [email protected]

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *