Friday , November 27 2020
Breaking News

जैशा और उनके कोच ने कहा था, ‘एनर्जी ड्रिंक नहीं चाहिए’: AFI

jaishaरियो ओलिंपिक के मैराथन इवेंट में हिस्सा लेने गईं ओपी जैशा के रेस के दौरान पानी न मिलने वाली बात को ऐथलीटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (AFI) ने नकार दिया है। AFI ने एक स्टेटमेंट जारी कर कहा है कि जैशा और उनके कोच ने ही रेस के बीच में एनर्जी ड्रिंक लेने वाले ऑप्शन के लिए मना कर दिया था।

सोमवार को जैशा ने कहा था कि भारतीय ऑफिशलों ने उनके लिए रेस के दौरान न तो एनर्जी ड्रिंक्स का इंतजाम किया था और न ही पानी का। रेस पूरी होने के बाद वह तीन घंटे तक बेहोश रहीं और उन्हें कई बोतल ग्लूकोज चढ़ाया गया। जैशा न बताया, ‘वहां बहुत गर्मी थी। सुबह 9 बजे से दौड़ना था। मैं चिलचिलाती धूप में दौड़ रही थी। वहां हमारे लिए न तो पानी था न ही खाने के लिए कुछ। 8 किमी दौड़ने के बाद हमें पानी मिला (ओलिंपिक आयोजकों की तरफ से), लेकिन वह हमारे लिए पर्याप्त नहीं था। ट्रैक पर हर देश ने हर दो किमी की दूरी पर अपना स्टॉल लगा रखा था, लेकिन हमारे देश का स्टॉल खाली था।’

जैशा के बयान को खारिज करते हुए एएफआई ने कहा कि उनके कोच ने ही किसी भी ड्रिंक को लेने से मना कर दिया था। एएफआई ने कहा है कि हर टीम को बूथ पर अपने ड्रिंक्स रखने की इजाजत दी गई थी, जिसे टीम और ऐथलीट के चॉइस के कलर के साथ मार्क किया जाता है।

एएफआई ने कहा है कि महिला मैराथन की पिछली रात को भारतीय टीम का मैनेजर 16 खाली बोतलों को लेकर उनके कमरे में गया था। इनमें से 8 जैशा के लिए और 8 कविता के लिए थीं। टीम मैनेजर ने उनसे कहा कि वे अपनी पसंद की ड्रिंक बता दें, ताकि उनकी उपस्थिति में उसे सील कर लिया जाए। इसके बाद आयोजकों को बोतलें दे दी जातीं और वे उसे उनके बूथ पर रख देते। एएफआई का कहना है कि जैशा और कविता दोनों ने ही इस ऑफर को ठुकरा दिया और इंडियन टीम मैनेजर को बताया कि उन्हें पीने के लिए कुछ नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें एनर्जी ड्रिंक की जरूरत पड़ेगी तो वे आयोजकों के बनाए वॉटर बूथ और रिफ्रेशमेंट बूथ से ले लेंगे।

विमिन्ज़ मैराथन पूरी करके 89वें नंबर पर रहीं जैशा ने बताया, ‘मैंने अधिकारियों से पूछा कि वहां पानी क्यों नहीं था तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। मुझे नहीं पता कि वे लोग वहां कर क्या रहे थे। भारतीय एथलेटिक्स दल में ढेर सारे लोग थे और कोई भी यह काम कर सकता था। मुझे पता ही नहीं था कि वे लोग थे कहां। मेरी हालत बहुत खराब हो गई थी। मेरे कोच पर दुर्व्यवहार का आरोप लगा दिया गया। वह और क्या कर सकते थे?’

Loading...

एएफआई ने ये भी कहा कि नियमों के अनुसार, किसी और से या किसी ऑफिशल से ड्रिंक लेने पर ऐथलीट को खेल से बाहर किया जा सकता है। या तो ऐथलीट को आयोजकों के बूथ से ही ड्रिंक लेनी होती है या फिर उनकी ड्रिंक आयोजकों को रेस से पहले ही दे दी जाती है ताकि वे उन्हें उपलब्ध करा सकें। एएफआई ने कहा कि इसलिए ओपी जैशा का यह आरोप कि उन्हें पानी और एनर्जी ड्रिंक्स नहीं दिए, एकदम निराधार है।

एएफआई के अनुसार, जैशा ने 2015 में पेइचिंग में चल रहे वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी एक दूसरे इवेंट में एनर्जी ड्रिंक लेने से मना कर दिया था। उनके कोच ने बताया था कि उन्हें एनर्जी ड्रिंक लेने की आदत नहीं है।’ AFI ने पुरुष मैराथन में हिस्सा ले रहे ऐथलीटों का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने एनर्जी ड्रिंक की रिक्वेस्ट की थी और उन्हें वह ड्रिंक उपलब्ध कराया गया था।

अपने कोच निकोलाई नेसारेव के दुर्व्यवहार की खबरों पर जैशा ने कहा, ‘मेरे कोच बहुत नाराज थे और उनका गुस्सा डॉक्टरों पर निकल गया। कोच को लगा कि मैं मर गई हूं। मेरे कमरे में घुसने के लिए उन्होंने डॉक्टर को धक्का दे दिया, क्योंकि अगर मुझे कुछ हो जाता तो इसके लिए वही जिम्मेदार होते।’ जैशा ने बताया कि जब उन्होंने अधिकारियों से पूछा कि स्टॉल पर पानी क्यों नहीं था, तो अधिकारियों ने कोई जवाब नहीं दिया।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *