Tuesday , November 24 2020
Breaking News

भारत ने पहली बार पाक को उसके घर में लताड़ा: राजनाथ ने मंत्री से न हाथ मिलाया, न लंच किया; PAK ने स्पीच दिखाने पर लगाई रोक

rajnath23इस्लामाबाद। पाकिस्तान में होम मिनिस्टर्स के सार्क कॉन्फ्रेंस में भारत-पाक के बीच सिर्फ तल्खी दिखी। गुरुवार को प्रोग्राम शुरू हुआ तो दोनों देशों के होम मिनिस्टर्स आमने-सामने तो हुए, पर फॉर्मल हैंडशेक तक नहीं किया। राजनाथ की स्पीच टेलिकास्ट नहीं होने दी गई। इसके बाद राजनाथ ने वहां के होम मिनिस्टर चौधरी निसार की ओर से दिया गया लंच छोड़ दिया। चार घंटे पहले ही दिल्ली लौट आए। सीधे पीएम से मुलाकात कर रिपोर्ट दी। शुक्रवार को वे संसद में पाक दौरे पर बयान देंगे। बता दें कि 1947 में बंटवारे के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी भारतीय मंत्री ने पाकिस्तान को उसकी जमीन पर ही इस तरह लताड़ लगाई हो। पाक में जाकर PAK को जमकर लताड़ा, ऐसे दिखाई ‘बहादुरी’…
1# दोपहर 12:15 बजे : राजनाथ ने फॉर्मल हैंडशेक नहीं किया
– पाक होम मिनिस्टर कॉन्फ्रेंस वेन्यू पर सबका वेलकम कर रहे थे। राजनाथ वहां पहुंचे।
– दोनों मंत्रियों ने बमुश्किल से एक-दूसरे का हाथ छुआ। फॉर्मल हैंडशेक नहीं किया।
– पीटीआई के मुताबिक, जैसे ही राजनाथ आए, वे निसार से मिले और तुरंत आगे बढ़ गए
2# दोपहर 2 बजे : आतंकवाद के मुद्दे पर पाक को घेरा
– कश्मीर में मारे गए आतंकी बुरहान वानी के मुद्दे पर कहा- ”आतंकियों को शहीद कह कर महिमामंडित करना गलत है।”
– पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा- अच्छा और बुरा आतंकवाद नहीं होता।
– पठानकोट, काबुल और ढाका जैसे हमलों का जिक्र करते हुए कहा, ”आतंकवादियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जरूरत है।”
– उन्होंने कहा कि मुंबई हमले के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।
3# दोपहर 2.15 बजे : तिलमिलाए PAK ने सेंसर की राजनाथ की स्पीच
– सार्क में राजनाथ की स्पीच को पाकिस्तान सरकार ने टेलिकास्ट से रोक दिया।
– केवल पाकिस्तानी सरकारी चैनल पीटीवी को स्पीच कवर करने की इजाजत थी।
– इंडियन मीडिया ही नहीं, पाकिस्तान के प्राइवेट चैनल को भी इसकी कवरेज की इजाजत नहीं मिली।
– नई दिल्ली से आई इंडियन मीडिया को दूर रखा गया। इसे लेकर पाकिस्तानी अफसरों से कहासुनी भी हुई।
4# दोपहर 2.53 बजे : राजनाथ ने खाना नहीं खाया
– समझा जा रहा है कि स्पीच की कवरेज रोके जाने से नाराज राजनाथ सिंह ने लंच छोड़ दिया।
– सार्क कॉन्फ्रेंस के मेजबान देश के तौर पर पाकिस्तानी होम मिनिस्टर चौधरी निसार ने लंच दिया था। वह भी वहां नहीं पहुंचे।
– इसके बाद राजनाथ भारत के लिए रवाना हो गए।
ब्लैक आउट पर सफाई की कोशिश
– देर शाम भारत और पाकिस्तान सरकारों की तरफ से यह बताने की कोशिश की गई की राजनाथ की स्पीच ब्लैक आउट नहीं की गई थी।
– सरकारी सूत्रों के मुताबिक, सार्क कॉन्फ्रेंस में मेजबान देश की ही स्पीच पब्लिक की जाती है। बाकी कार्यवाही इन कैमरा रहती है।
– इस बीच, पाकिस्तीनी मंत्री ने कहा कि आरोप-प्रत्यारोप से किसी का फायदा नहीं होने वाला। भारत कश्मीर में फोर्स का इस्तेमाल बंद करे।
क्या है सार्क?
– SAARC (साउथ एशियन एसोसिएशन फॉर रीजनल को-ऑपरेशन) साउथ एशिया के 8 देशों का इकोनॉमिक और पॉलिटिकल ऑर्गनाइजेशन है।
– इसकी शुरुआत 8 दिसंबर, 1985 को बांग्लादेश की राजधानी ढाका में भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, मालदीव और भूटान ने मिलकर की थी।
20 में भारत ने दूसरी बार पाक को बड़े मंच पर सुनाई खरी खोटी
– राजनाथ सिंह ने गुरुवार को सार्क कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान को खरी खोटी सुनाई।
– इससे पहले 14 जुलाई को भी भारत ने आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर का मुद्दा यूएन में उठाने पर पाकिस्तान को लताड़ लगाई थी।
– भारत ने यूएन में कहा था कि आतंकवाद पाकिस्तान की स्टेट पॉलिसी का हिस्सा है। वो आतंकवादियों का गुणगान कर रहा है।
पाकिस्तान को आड़े हाथ लेते हुए भारत ने कहा कि पाकिस्तान दूसरे देश के लोगों को देश के खिलाफ भड़का रहा है।
– उस दौरान 193 मेंबर्स की यूएन जनरल असेंबली में ह्यूमन राइट्स पर बहस के दौरान पाकिस्तान ने कश्मीर मुद्दा उठाया था।
– यूएन में पाकिस्तान की हाईकमिश्नर मलीहा लोधी ने आतंकी बुरहान वानी को कश्मीर का लीडर बताया था।
– लोधी ने बुरहान के एनकाउंटर को एक्स्ट्रा ज्यूडिशियल किलिंग बताते हुए कहा कि इंडियन आर्मी ने उसे मार डाला।
– पाकिस्तान के आरोपों पर यूएन में भारत के हाईकमिश्नर सैयद अकबरुद्दीन ने कड़ी प्रतिक्रिया दी था।
– उन्होंने कहा था, ”पाकिस्तान अपना ट्रैक रिकॉर्ड देखे। वो इंटरनेशनल कम्युनिटी को भरोसे में लेने में नाकाम रहा है।”
– ”पाकिस्तान हमेशा गलत नीयत से शर्मनाक कोशिश करता है।”
सार्क वेन्यू से 7 Km दूर आतंकी सलाहुद्दीन ने किया था प्रदर्शन
– बुधवार को जब राजनाथ इस्लामाबाद पहुंचे थे तो वहां कॉन्फ्रेंस वेन्यू से 7 Km दूर आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना सैयद सलाहुद्दीन ने विरोध की अगुआई की थी।
– उसने भारत का झंडा जलाया।
– वहीं, नवाज शरीफ ने उकसाने वाला बयान देते हुए कहा- कश्मीर भारत का अंदरूनी मसला नहीं है।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *