Sunday , November 29 2020
Breaking News

अब कोलकाता बीजेपी में उठे विरोध के स्वर – पड़ सकती हैं बड़ी फूट

BJP-kolkataकोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन में सुधार के बावजूद पार्टी के अंदर की लड़ाई की वजह से बीजेपी की प्रदेश इकाई में असंतोष के संकेत मिल रहे हैं। पार्टी की प्रदेश इकाई के नेताओं का एक वर्ग मौजूदा पदाधिकारियों पर ‘गैर राजनीतिक’ लोगों को बढ़ावा देने और आरएसएस के कहे पर चलने का आरोप लगा रहा है। हालांकि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने इस आरोप से इंकार करते हुए कहा कि संस्थागत ढांचे का निर्माण पार्टी के हितों को ध्यान में रखते हुए किया गया है।

प्रदेश की राजनीति में एक ‘बैक-बेंचर’ मानी जाने वाली बीजेपी साल 2014 के लोकसभा चुनाव में चर्चा में आई थी। मोदी लहर के दम पर पार्टी ने तब 17 प्रतिशत वोट हासिल किए थे। राज्य में पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान अपने दम पर लड़ते हुए बीजेपी ने पहली बार तीन सीटें जीतीं। प्रदेश के एक बीजेपी नेता ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा कि पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राहुल सिन्हा की ओर से आरएसएस प्रचारक दिलीप घोष को कमान सौंपे जाने के बाद से पार्टी की प्रदेश इकाई के भीतर लड़ाई और गुटबाजी बढ़ गई है।

घोष को साल 2015 की शुरूआत में आरएसएस से पार्टी में शामिल किया गया था। उन्होंने दिसंबर 2015 में प्रदेश इकाई की कमान संभाली थी। राहुल सिन्हा के कार्यकाल में पार्टी में अहम पदों पर रहे कई नेताओं को या तो दरकिनार कर दिया गया है या पार्टी के भीतर उनका प्रभाव खत्म हो गया है। पिछले छह माह में कई जिला अध्यक्षों और सांगठनिक सचिवों को भी हटाया गया है। प्रदेश बीजेपी के असंतुष्ट तबके ने पार्टी के मामलों में आरएसएस के ‘अतिरिक्त हस्तक्षेप’ का भी आरोप लगाया। इसके साथ ही इस तबके का यह भी आरोप है कि उन ‘‘गैर-राजनीतिक’’ तत्वों को बढ़ावा दिया जा रहा है, जिन्हें पार्टी या बंगाल की राजनीति को लेकर कोई विशेष समझ नहीं है।

प्रदेश बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा कि राहुल सिन्हा के कार्यकाल में जो नेता वरिष्ठ पदों पर थे, उन्हें पूरी तरह दरकिनार कर दिया गया है। ऐसे लोगों को बढ़ावा दिया जा रहा है, जो गैर-राजनीतिक हैं और जिनकी कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि या समझ नहीं है। यह निकट भविष्य में पार्टी की संभावनाओं को नुकसान पहुंचाएगा।

बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव और पर्यवेक्षक सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि यह किसी को दरकिनार कर देने का सवाल नहीं है। जब भी कोई नया अध्यक्ष पद संभालता है तो वह अनुभवी लोगों और नए नेताओं दोनों को ही मिलाकर अपनी टीम बनाता है और बंगाल बीजेपी में भी ऐसा ही किया जा रहा है। पार्टी का प्रमुख चेहरा रहे एक अन्य वरिष्ठ नेता ने दावा किया कि प्रदेश बीजेपी की पूरी निर्णय प्रक्रिया में आरएसएस के नियंत्रण की प्रवृत्ति बढ़ रही है, जो कि पार्टी का ज्यादा नुकसान कर रही है।

Loading...

उन्होंने कहा कि आरएसएस में पार्टी की निर्णय प्रक्रिया को नियंत्रित करने की प्रवृत्ति बढ़ रही है। आरएसएस हमेशा से बीजेपी के संगठन का अहम हिस्सा रहा है लेकिन पिछले कुछ माह में यह इतना बढ़ गया है कि अयोग्य लोग आरएसएस के समर्थन के चलते विभिन्न पदों पर आसीन हो रहे हैं। नेता ने यह भी दावा किया कि कार्यकर्ताओं के बीच निराशा बढ़ रही है।

उन्होंने कहा कि राज्य के विभिन्न हिस्सों के जो कार्यकर्ता 2014 के बाद माकपा और कांग्रेस छोड़कर इस उम्मीद में बीजेपी के साथ जुड़े थे कि वो तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ लड़ सकेंगे, उनमें पार्टी के नेतृत्व के प्रति निराशा भर रही है और वे अब पार्टी छोड़ना चाहते हैं। वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने इन आरोपों को नकारते हुए कहा कि उन्होंने एक नेता के तौर पर अपनी क्षमता साबित की है।

उन्होंने कहा कि कौन हैं वे? यदि उनमें हिम्मत है तो वे मेरे सामने यह बात क्यों नहीं कहते? यदि मैं गैर-राजनीतिक व्यक्ति हूं तो मेरी सीट समेत तीन सीटें कैसे जीत ली गईं? जो ये आरोप लगा रहे हैं, वे खुद लालची हैं तथा उन्हें राजनीतिक पदों और धन के अलावा कुछ और समझ नहीं आता।

उन्होंने ये भी कहा कि मैंने किसी को दरकिनार नहीं किया। मैंने उन्हें नई जिम्मेदारियां दी हैं। क्या वो हमेशा महासचिव, सचिव और अध्यक्ष ही बने रहना चाहते हैं? प्रदेश बीजेपी सचिव एवं प्रवक्ता कृष्णु मित्रा ने कहा कि अपनी खुद की टीम बनाना प्रदेश अध्यक्ष का विशेष अधिकार है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *