Breaking News

बीजेपी नेता की आपत्तिजनक टिप्पणी पर माया का जवाब, ‘उसने जो कहा अपनी बहन-बेटी के लिए कहा’

22mayawatiनई दिल्ली। बीजेपी की उत्तर प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह द्वारा बीएसपी सुप्रीमो मायावती के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए उनकी तुलना ‘वेश्या’ से किए जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। खुद मायावती ने इस मामले में प्रतिक्रिया जताते हुए राज्यसभा में दयाशंकर सिंह और बीजेपी पर तीखा हमला बोला है। बेहद गुस्से से भरीं मायावती ने सदन में कहा, ‘उस व्यक्ति ने जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल मेरे खिलाफ किया है, उसका जिक्र नहीं किया जा सकता है। लेकिन उसने जो भी कहा है, वह मेरे लिए नहीं बल्कि अपनी बेटी और बहन के लिए कहा है।’ मायावती ने कहा कि उस नेता के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए, वरना लोग अगर हिंसा पर उतर आए तो बीएसपी जिम्मेदार नहीं होगी।

यह भी पढ़ें:

उत्तर प्रदेश BJP उपाध्यक्ष ने मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी की, ‘वेश्या’ से की तुलना

मायावती के भाषण से पहले ही अरुण जेटली ने दयाशंकर सिंह के बयान पर कहा था कि वह इसकी निंदा करते हैं और खेद जताते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी दयाशंकर सिंह के खिलाफ कार्रवाई करेगी। मायावती ने आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर कहा, ‘मैंने दलित आंदोलन में आने के बाद फैसला लिया कि मुझे न शादी करनी है और न ही परिवार बनाना है। मेरा बहुत बड़ा परिवार है, जो मुझे बहनजी के नाम से संबोधित करते हैं। मान्यवर कांशीराम ने जब आंदोलन को शुरू करते हुए पार्टी बनाई तो कहा था कि एक वोट और एक नोट। उनके आदेश के अनुसार ही हमारी पार्टी बड़े लोगों से नोट नहीं लेती, लेकिन पूंजीवादी मानसिकता के लोगों को यह अच्छा नहीं लगता है।’

मायावती ने कहा, ‘बीएसपी कार्यकर्ता 15 जनवरी को मेरा जन्मदिन आर्थिक सहयोग दिवस के तौर पर मनाते हैं, जिस तरह की भाषा का बीजेपी के उपाध्यक्ष ने इस्तेमाल किया है, वह सदन में कही नहीं जा सकती। नेता सदन ने इसकी निंदा की है, मैं उनका आभार प्रकट करती हूं।’ मायावती ने अपने राजनीतिक करियर का हवाला देते हुए कहा, ‘मैं दलित वर्ग की बेटी हूं। चार बार सीएम रही हूं। मैं कई बार लोकसभा में रही हूं। लेकिन मैंने आज तक किसी को अपशब्द नहीं कहा। मैंने किसी के चरित्र पर या व्यक्तिगत तौर पर हमला नहीं बोला। वैचारिक और राजनीतिक लड़ाई तो अपनी जगह है।’

मायावती ने कहा, ‘मुझे कई लोग कहते हैं कि फलां व्यक्ति ने आप के खिलाफ इस तरह की भाषा बोली है, लेकिन मैं ऐसा नहीं बोलती। जिसने इस भाषा का इस्तेमाल किया है, उसने मेरे बारे में नहीं, बल्कि अपनी बेटी और बहन के बारे में बोला है। एक तरफ गुजरात में आग लगी हुई है और यहां कुछ लोग इस तरह की बातें कर रहे हैं।’

यही नहीं विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह द्वारा बीते साल दिए गए विवादित बयान का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘इसी सरकार के एक मंत्री ने दलितों की तुलना कुत्ते से कर दी थी। लेकिन आज तक पार्टी ने उसे हटाया नहीं है।’ मायावती ने कहा कि यदि पूरे देश में इस पर बवाल मचता है तो बीएसपी इसके लिए जिम्मेदार नहीं होगी, बल्कि बीजेपी होगी। आज उस व्यक्ति ने मेरे बारे में बोला है, कल वह सामान्य जाति की महिलाओं के खिलाफ ऐसी टिप्पणी करेगा। उसे पार्टी से निकाला जाना चाहिए।’

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *