Breaking News

‘दिल्ली को लंदन बना दूंगा, बस केंद्र रोज-रोज के झगड़े बंद करे’

kejari22नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को ‘टॉक टु एके’ के पहले कार्यक्रम में बेबाकी से सवालों के जवाब दिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली के विकास के तमाम कार्यों को केंद्र ने रोक रखा है। ये अगर भारत-पाकिस्तान वाली स्थिति पैदा नहीं करते तो दिल्ली में जो विकास चल रहा है, वह अब तक चार गुना हो गया होता।

केजरीवाल ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से पिछले साल मिलकर हाथ जोड़कर कहा था कि मुझसे कोई गलती हुई हो तो माफ कर दीजिए। मैं आपके सारे काम करके दिखाऊंगा। दिल्ली को लंदन बना दूंगा। बस ये रोज-रोज की किचकिच बंदा करा दो, लेकिन वह नहीं माने।

दरअसल, दिल्ली निवासी पुलकित ने सीएम से सवाल पूछा था कि ‘आप आरोप लगाते हैं कि मोदी जी आपको काम नहीं करने देते। फिर विज्ञापन देकर दिल्ली सरकार की उपलब्धियां भी गिनाते हैं? ऐसा कैसे संभव है।’ केजरीवाल ने कहा- केंद्र सरकार की तमाम बाधाओं के बाद भी दिल्ली सरकार काम कर रही है। केंद्र ने 14 विधेयकों को लटका रखा है। इनमें लोकपाल विधेयक भी शामिल है। सरकार उसे मंजूरी नहीं दे रही है।

ठप करने की कोशिश
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार में तमाम अधिकारी अच्छा काम कर रहे हैं। लेकिन, हाल ही में 11 अधिकारियों का तबादला बगैर सरकार की राय के कर दिया गया। इस समय सचिवों के 20 पद खाली हैं। दिल्ली सरकार को लकवाग्रस्त करने की कोशिश की जा रही है। अगर कोई उनके सामने घूस दे रहा हो तो भी वह गिरफ्तार नहीं करा सकते हैं। उनके पास कोई एजेंसी नहीं है।

काम को बताते हैं विज्ञापन
दिल्ली के बाहर के राज्यों में भी विज्ञापन देने के सवाल पर केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली देश की राजधानी है। यहां कोई भी घटना होती है, तो उसे पूरे देश में दिखाया जाता है। राजधानी में सभी प्रांतों के लोग रहते हैं। ऐसे में अगर दिल्ली में कोई अच्छा काम हो रहा है तो उसके बारे में देश क्या विदेश में भी बताने की जरूरत है। सरकार के स्वास्थ्य सुविधाओं के त्रिस्तरीय माॠडल खासकर मोहल्ला क्लीनिक की अमेरिका तक में तारीफ हो रही है। अखबार लिख रहे हैं कि अमेरिका को दिल्ली से सीखना चाहिए। ऐसा पहली बार हुआ है। विज्ञापन जरूरी हैं। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) झूठ का प्रचार करने में आगे रहता है। इसलिए भी सरकार के विज्ञापन जरूरी हैं। देश के लोगों को जब पता चलेगा कि दिल्ली में अच्छे काम हो रहे हैं तो निवेश बढ़ेगा। उन्होंने इवेंट इंडस्ट्री को अनुमति देने की प्रक्रिया आसान बनाने का जिक्र किया।

Loading...

सबसे ज्यादा मुआवजा दिया
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार ने कई मोर्चों पर अच्छा काम किया है। शिक्षा-स्वास्थ्य एजेंडे में सबसे ऊपर हैं। स्कूलों की हालत सुधरी है। दिल्ली में किसानों को बड़ा मुआवजा दिया गया। जब उन्होंने किसानों के मुआवजे को छह गुना करने का आदेश जारी किया तो उपराज्यपाल ने उसे निरस्त कर दिया। किसान हित में उपराज्यपाल से टकराना पड़ा। अंतरराज्यीय परिषद् की बैठक में उन्होंने प्रधानमंत्री से किसानों की कर्ज माफी, स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू करने और किसानों का इलाज मुफ्त में कराने की मांग की है। अगर केंद्र सरकार ऐसा कर देती है तो किसान आत्महत्या नहीं करेंगे। दिल्ली के बड़े अस्पतालों में सारी दवाइयां और जांच मुफ्त कर दी गई हैं। शिक्षा में सुधार के लिए नए स्कूल और कक्षा का निर्माण किया जा रहा है। शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए उन्हें आईआईएम समेत विदेशों में भी भेजा जा रहा है।

सचिव लाभ के दायरे में नहीं
पुडुचेरी निवासी सुधाकर ने 21 संसदीय सचिवों के मुद्दे पर पूछे गए सवाल के जवाब में केजरीवाल ने कहा- वे कोई लाभ नहीं ले रहे हैं। उम्मीद है कि इस बात को चुनाव आयोग भी मानेगा। जंगपुरा से विधायक प्रवीण कुमार को सरकारी स्कूल और राजेश गुप्ता को अस्पतालों के निरीक्षण की जिम्मेदारी सौंपी है। विधायक के तौर पर ये पूरी दिल्ली में नहीं जा सकते थे, इसलिए इन्हें अधिकृत करने के लिए संसदीय सचिव का पद दिया है। इसकी जिम्मेदारी वे पूरी मेहनत से निभा रहे हैं। दूसरे राज्यों के संसदीय सचिव लाभ लेने के बाद भी काम नहीं कर रहे हैं।

पूर्ण राज्य पर जनमत संग्रह होगा
दिल्ली सरकार जल्द ही पूर्ण राज्य के मुद्दे पर जनमत संग्रह कराएगी। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने केरल के रहने वाले संजीव के सवाल के जवाब में यह बात कही। संविधान में ‘रेफरेंडम’ शब्द नहीं है, न ही ऐसी कोई व्यवस्था है। लेकिन, दिल्ली सरकार और डीडीए किसके अधीन हों, इसके बारे में जनता से पूछेंगे।

एक-डेढ़ महीने में फिर कार्यक्रम होगा
दो घंटे लंबे ‘टॉक टु एके’ कार्यक्रम के अंत में जब मुख्यमंत्री से पूछा गया कि अगली बार जनता से कब बात करेंगे तो उन्होंने कहा कि महीने-डेढ़ महीने में यह कार्यक्रम फिर से होगा। अगले कार्यक्रम में लोग सुझाव भी दे सकेंगे। कार्यक्रम की शुरुआत में केजरीवाल ने सरकार की उपलब्धियों का जिक्र किया। इसके बाद करीब 12 सवालों का जवाब दिया। कुछ सवालों को इकट्ठा करके पूछा गया। कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया मौजूद रहे। ‘टॉक टु एके’ का संचालन संगीतकार विशाल डडलानी ने किया। कार्यक्रम में केजरीवाल ने प्रमुख तौर पर दिल्ली सरकार के कामकाज, केंद्र से टकराव, विधायकों की गिरफ्तारी, वेतन बढ़ाने और दिल्ली सरकार के विज्ञापन विवाद समेत गुजरात में चुनाव लड़ने पर आए सवालों के जवाब दिए।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *