Tuesday , June 15 2021
Breaking News

क्या बिखर जाएगा ईयू? नीदरलैंड में भी पहुंची आग

24Jean-Claude-Junckerब्रसल्ज। अपने 59 साल के इतिहास में यूरोपियन यूनियन शुक्रवार सुबह ब्रिटेन के अलग होने के बाद सबसे बड़े संकट में फंस चुका है। ब्रसल्ज स्थित यूरोपियन यूनियन के हेडक्वार्टर के लिए गुरुवार की रात किसी बुरे सपने से कम नहीं रही। डच ऐंटी-इमिग्रेशन लीडर गीर्ट वाइल्डर्स ने ब्रेग्जिट के नतीजे के बाद नीदरलैंड में भी ईयू को लेकर जनमत संग्रह कराने की मांग की है।

उन्होंने कहा, ‘हमलोग चाहते हैं अपने देश को हम चलाएं। हमारी करंसी हो, हमारी सीमा हो और हम इमिग्रेशन पॉलिसी बनाएं।’ वाइल्डर पहले यूरोपीय शख्स हैं जिन्होंने ब्रेग्जिट नतीजों के बाद ऐसी टिप्पणी की है। सीनियर ईयू अधिकारियों ने गोपनीय तरीके से चेतावनी दी है कि ब्रिटेन की तर्ज पर कई देश ईयू से अलग होने की राह पर बढ़ सकते हैं। इनका कहना है कि यह संक्रमण का रूप ले सकता है।

फ्रांस में फ्रंट नैशनल की लीडर मरीन लपेन ने कहा कि वह देशों की आजादी के पक्ष में हैं। चांसलर अंगेला मेरेकल की करीबी सीनियर जर्मन कंजर्वेटिव एमइपी मैनफ्रेड वेबर ने चेतावनी दी है कि ब्रिटेन को कोई खास तवज्जो नहीं मिलेगी और उसे दो सालों को भीतर ईयू से बाहर होना होगा। उन्होंने चार ट्वीट कर कहा, ‘हमलोग ब्रिटिश वोटर्स के फैसलों का सम्मान करते हैं लेकिन खेद भी है। इससे दोनों पक्षों को धक्का लगेगा।’
उन्होंने कहा, ‘यह ब्रिटिश वोट था न कि यूरोपियन वोट। यूरोप के भीतर सहयोग महाद्वीप में खुद के दायरे में सिमटने को लेकर सवालों के घेरे में है। हम बेटर और स्मार्टर यूरोप चाहते हैं। हम लोगों को समझाना है और यूरोप को करीब लाना है। अधिकतम दो सालों में ब्रिटेन के बाहर होने की प्रक्रिया पूरी हो जानी चाहिए। यहां उसे कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं मिलने जा रहा। छोड़ दिया मतलब आपने छोड़ दिया।’

Loading...

ब्रिटेन के अलग होने के बाद पैदा हुए संकट के बीच ब्रसल्ज में यूरोपियन काउंसिल के प्रेजिडेंट डॉनल्ड टस्क, यूरोपियन कमिशन प्रेजिडेंट मार्टिन शोल्ट्स और यूरोपीय संसद के प्रेजिडेंट मार्क रूत्ते मीटिंग करेंगे। पूर्व फिनिश प्रधानमंत्री अलेक्जेंडर स्टब ने कहा है कि यह किसी दुःस्वप्न से कम नहीं है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, ‘मैं अब भी सो रहा हूं और एक दुःस्वप्न ने दस्तक दे दी। स्टब फीनलैंड के 2014-15 में प्रधानमंत्री रहे थे और वह इस हफ्ते तक वित्त मंत्री थे।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *