Breaking News

मलयेशिया की एक यूनिवर्सिटी के मुताबिक, भारत में हिंदू ‘अस्वच्छ और गंदे’

15UTMकुआलालम्पुर। मलयेशिया की एक प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी ने अपने एक स्टडी मॉड्यूल में भारत में हिंदुओं को ‘गंदे’ लोगों के रूप में पेश किया है जिसके बाद इस मुस्लिम बहुल देश में विवाद खड़ा हो गया है और अल्पसंख्यक समुदाय में आक्रोश फैल गया। यूनिवर्सिटी टेक्नॉलजी मलयेशिया (UTM) के इस मॉड्यूल के स्लाइडों को ऑनलाइन पोस्ट करने के बाद विवाद खड़ा हो गया।

इन स्लाइडों में दावा किया गया है कि हिंदू अपने शरीर के मैल को निर्वाण प्राप्त करने के अपने धार्मिक कर्म का हिस्सा मानते हैं। मलयेशिया के उपशिक्षा मंत्री पी. कमलनाथन द्वारा इस मुद्दे को उठाए जाने के बाद यूनिवर्सिटी ने कहा कि वह इस मॉड्यूल की समीक्षा करेगा। भारतीय मूल के कमलनाथन ने फेसबुक पर पोस्ट किया, ‘मैंने UTM के कुलपति से बात की है और उन्होंने इस भूल को स्वीकार कर लिया है।’

मलय मेल ऑनलाइन ने मंगलवार को खबर दी कि इस मॉड्यूल में जरूरी बदलाव किए जाएंगे। अधिकारी इस सुझाव से पूरी तरह सहमत थे कि यह सुनिश्चित किया जाए कि ऐसी भूल दोबारा न हो। मुस्लिम बहुल मलयेशिया की 2.8 करोड़ की जनसंख्या में 60 फीसदी मलय हैं जो पूरी तरह मुसलमान हैं। पच्चीस फीसदी चीनी हैं जो ईसाई और बौद्ध हैं। आठ फीसदी भारतीय मूल के हैं जिनमें ज्यादातर हिंदू हैं।
कमलनाथन ने कहा कि हिंदुओं को गंदे के रूप में चित्रण करने वाले UTM मॉड्यूल के स्लाइड इस धर्म को गलत तरीके से पेश करने के लिए जानबूझकर तैयार किया गया है। उन्होंने इन स्लाइडों पर अपनी नाखुशी प्रकट की। न्यूज पोर्टल के अनुसार उन्होंने कहा कि वह उच्च शिक्षा मंत्रालय से यह सुनिश्चित करने को कहेंगे कि इस्लाम और एशियाई सभ्यता अध्ययन के इस मॉड्यूल की सभी सामग्री को छात्रों के सामने पेश करने से पहले धार्मिक विशेषज्ञों द्वारा परखा जाए।

Loading...

इस मॉड्यूल में यह भी दावा किया गया है कि इस्लाम ने ही भारत में हिंदुओं के जीवन में शिष्टाचार शुरू किया। सिख धर्म की उत्पति के अध्ययन पर केेंद्रित एक अन्य स्लाइड में दावा किया गया है कि इस धर्म के संस्थापक गुरु नानक की इस्लाम के बारे में मामूली समझ थी और उन्होंने सिख पंथ की स्थापना करने में इसे आसपास की हिंदू शैली को साथ मिला लिया।

‘मलयेशियन इंडियन प्रोग्रेसिव असोसिएशन’ ने इन स्लाइडों की निंदा करते हुए यूनिवर्सिटी से इसे वापस लेने और माफी मांगने की मांग की है। हिंदू धर्म असोसिएशन ऑफ मलयेशिया के अध्यक्ष ने UTM के खिलाफ सुंगई पेटानी जिले में एक पुलिस रिपोर्ट दर्ज कराई है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *