Breaking News

कैराना पलायन मामले पर पलटे BJP सांसद, कहा मामला सांप्रदायिक नहीं

15hukum-singhwww.puriduniya.com मुजफ्फरनगर। BJP सांसद हुकुम सिंह ने मंगलवार को यू-टर्न लेते हुए कहा कि कैराना से हिंदुओं का पलायन सांप्रदायिक मुद्दा नहीं है बल्कि इसका कानून व्यवस्था की स्थिति से अधिक लेना देना है। उन्होंने कहा कि जिन परिवारों को अपने घर छोड़ने पड़े उनकी संख्या 400 से 500 तक हो सकती है। कैराना सांसद ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘यह सांप्रदायिक घटनाओं का मामला नहीं है। यह हिंदुओं या मुस्लिमों की बात नहीं है।’

उन्होंने कहा कि इसका कानून व्यवस्था की स्थिति से ज्यादा लेना-देना है। सिंह ने कहा, ‘मुझे लगता है कि जो लोग घर छोड़ गए उनकी सूची और बढ़ सकती है। यह 400 से 500 तक पहुंच सकती है। आरोपी एक नहीं है (जिसने लोगों को पलायन पर मजबूर किया), उनकी संख्या दर्जनों में है।’ उन्होंने पहले कहा था कि आरोपियों के नाम देखकर समझा जा सकता है कि ये लोग कौन हैं।

इस तरह से उन्होंने मुस्लिम समुदाय के सदस्यों की कथित संलिप्तता की ओर इशारा किया था। सिंह ने पहले 346 परिवारों की सूची जारी कर कहा था कि इन्हें इस कस्बे को छोड़ने पर मजबूर किया गया जहां 85 प्रतिशत मुस्लिम आबादी रहती है। 2013 में सांप्रदायिक दंगे देखने वाले शामली जिले में कैराना कस्बा पड़ता है। हुकुम सिंह ने आज 63 हिंदू परिवारों की एक और सूची जारी की और दावा किया कि उन्हें शामली जिले के कांधला कस्बे को छोड़कर जाना पड़ा।
उन्होंने दावा किया, ‘इन हिंदू परिवारों को दबाव में घर छोड़ने पड़े।’ जब पूछा गया कि कुछ मुस्लिम परिवार भी इलाका छोड़कर गए तो उन्होंने कहा, ‘अन्य लोग दूसरी वजहों से गए।’ हालांकि शामली के जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने इलाके से कुछ लोगों के घर छोड़ने के पीछे किसी तरह के सांप्रदायिक और कानून व्यवस्था के कारण की संभावना को खारिज कर दिया।

कुमार ने कहा, ‘अभी तक हम 119 परिवारों की सूची की जांच कर चुके हैं। सूची में लिखे करीब 10 से 15 परिवार अब भी कैराना में रहते हैं और तकरीबन 68 परिवार 10-15 साल पहले इलाका छोड़ गये थे। वे आर्थिक वजहों से गए। अभी तक हमें कोई मामला नहीं मिला जहां कानून व्यवस्था की समस्या रही हो।’

उन्होंने कहा, ‘कोई सांप्रदायिक गतिविधि नहीं रही। कैराना कस्बा हमेशा से शांतिपूर्ण रहा है। 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के समय इलाका शांतिपूर्ण रहा और 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों के दौरान भी यहां के लोगों ने भाईचारे का मजबूत संदेश दिया।’

Loading...

इलाहाबाद में BJP की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में BJP के शीर्ष नेताओं ने कैराना से हिंदुओं के कथित पलायन का मुद्दा उठाया था और अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले राज्य की समाजवादी सरकार पर हमला किया था।

BJP अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अपने भाषण में कहा था, ‘कैराना में हिंसा की वजह से हो रहा पलायन गंभीर चिंता का विषय है। हिंसा का माहौल है। भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में विकास और शासन की कमी गंभीर चिंता का मामला बन रही है।’ पार्टी ने एक समिति का भी गठन किया जो कैराना जाएगी और हालात का अध्ययन करेगी।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने BJP नेताओं पर इस मुद्दे पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा था कि वह चाहते हैं कि BJP बेहतर काम करे। उन्होंने सोमवार को संवाददाताओं से कहा था, ‘BJP आरोप लगा रही है कि समाजवादी सरकार ने लोगों को कैराना छोड़ने पर मजबूर किया। BJP इस हद तक बेईमान हो सकती है।’

जिलाधिकारी ने कहा, ‘हमें मीडिया की खबरें मिली हैं कि BJP यहां एक तथ्यान्वेषी समिति भेज रही है लेकिन हमें अभी तक लिखित में कोई सूचना नहीं मिली है। एक दल आ सकता है और अपनी जांच कर सकता है। हमें उसमें कोई आपत्ति नहीं है।’

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *