Breaking News

मालेगांव धमाके: पुरोहित भारत सरकार के खिलाफ 2 देशों से सरकार चलाना चाहता था: NIA

purohitwww.puriduniya.com मुंबई। मालेगांव में साल 2008 में हुए धमाकों का ‘एक मुख्य साजिशकर्ता’ लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीकांत प्रसाद पुरोहित इस्राइल और थाइलैंड में भारत के खिलाफ निर्वासित सरकार चलाना चाहता था। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने इस केस में शुक्रवार को दाखिल की गई अपनी दूसरी चार्जशीट में यह जानकारी दी है। एनआईए ने आरोप लगाया है कि साल 2008 की जनवरी में फरीदाबाद में हुई एक गुप्त बैठक में पुरोहित ने अलग भगवा ध्वज वाले हिंदू राष्ट्र के लिए एक अलग संविधान का प्रस्ताव रखा था।

एजेंसी ने अपने आरोप-पत्र में कहा है, ‘पुरोहित ने भारत सरकार के खिलाफ एक केंद्रीय हिंदू सरकार (आर्यावर्त) गठित किए जाने को लेकर चर्चा की। बैठक में पुरोहित ने इस निर्वासित सरकार को इस्राइल और थाइलैंड में गठित किए जाने का विचार रखा।’

इस आरोप-पत्र में एजेंसी ने कहा है कि पुरोहित ने भारतीय सेना का अधिकारी रहते हुए साल 2006 में ‘अभिनव भारत’ नाम का संगठन बनाया था। यह सेना के सेवा नियमों के खिलाफ है। पुरोहित पर आरोप है कि उसने फंड जुटा कर उन्हें हथियार और विस्फोटक खरीदने के काम में इस्तेमाल किया।
आरोप है कि पुरोहित ने हिंदुओं पर मुसलमानों द्वारा किए गए जुल्मों का बदला लेने की भी बात कही। एनआईए ने कहा है कि एक अन्य गवाह ने बयान दिया था कि पुरोहित ने बदला लेने के लिए मालेगांव में बम धमाका करने की बात कही थी।

Loading...

NIA ने शुक्रवार को अपनी दूसरी चार्जशीट में मालेगांव धमाकों की आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और बाकी पांच को क्लीन चिट दी है। लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित के खिलाफ मकोका (MCOCA) की धाराएं हटा ली गई हैं। हालांकि, NIA की चार्जशीट में पुरोहित मुख्य आरोपी बने रहेंगे। चार्जशीट में कहा गया है कि ATS ने 2008 में गिरफ्तारी के वक्त पुरोहित के घर पर RDX रखा था।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *