Tuesday , June 15 2021
Breaking News

11 साल बाद लखनऊ आ रहे हैं पीएम

pd logoलखनऊ/वाराणसी। पीएम नरेंद्र मोदी आज यूपी के दौरे पर हैं। सुबह लगभग साढ़े ग्यारह बजे मोदी वाराणसी पहुंचे। वहां उन्होंने डीएलडब्यू ग्राउंड पर प्रोजेक्टर से महामना एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई। इसके बाद दिव्यांगों को जरूरत के उपकरण बांटे। इस दौरान मोदी ने दिव्यांगों से मन की बात की। कार्यक्रम में शामिल होने आ रहे सड़क हादसे में घायल हुए दिव्यांगों के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की। फिर, वाराणसी से लखनऊ के लिए रवाना हो गए।

नवाबों के शहर लखनऊ में 11 साल बाद पीएम का दौरा हो रहा है। पीएम बनने के बाद मोदी तो पहली बार लखनऊ आ रहे हैं। इससे पहले पीएम मनमोहन सिंह 2005 में सितंबर महीने में लखनऊ आए थे। वे यहां एलआईसी की गोल्ड पॉलिसी का उद्घाटन करने वित्त मंत्री पी चिदंबरम के साथ आए थे। उस दौरान भी यूपी में सपा सरकार था और सीएम मुलायम सिंह यादव थे।

हालांकि, जिला प्रशासन के रिकॉर्ड में इसका जिक्र भी नहीं है। इससे पहले 13 साल पहले पीएम रहते हुए अटल बिहारी वाजपेयी ने लखनऊ का दौरा किया था।

पीएम मोदी लगभग साढ़े ग्यारह बजे वाराणसी पहुंचे। वाराणसी के बाबतपुर एयरपोर्ट मोदी के स्वागत के लिए सीएम के प्रतिनिधित्व के तौर पर यूपी के कारागार मंत्री बलराम यादव मौजूद थे। उन्होंने मोदी का स्वागत किया। बात यदि प्रोटोकॉल की करें तो पीएम के स्वागत के लिए सीएम को पीएम के स्वागत के लिए जाना चाहिए।

आज समाजवादी नेता जनेश्वर मिश्र की पुण्यतिथि है। इसलिए लखनऊ जनेश्वर मिश्र पार्क में कार्यक्रम आयोजित था। इसमें सीएम को शामिल होना था। इस वजह से सीएम अखिलेश मोदी के स्वागत के लिए बाबतपुर एयरपोर्ट नहीं पहुंचे। हालांकि, मोदी के लखनऊ पहुंचने पर वे स्वागत के लिए अमौसी एयरपोर्ट पर मौजूद रहेंगे।

मोदी के लखनऊ दौरे का मिनट-टू-मिनट प्रोग्राम

1:40 PM- मोदी का स्पेशल प्लेन लखनऊ एयरपोर्ट पर आएगा।
1:55 PM – मोदी बीबीएयू विवि में दीक्षांत समारोह के लिए पहुंचेंगे।
3:15 PM- बीबीएयू से काल्विन कॉलेज के लिए जाएंगे।
3:30 PM- काल्विन कॉलेज में रिक्शा संघ के कार्यक्रम में शामिल होंगे।
4:35 PM- मोदी काल्विन से रवाना होंगे।
4:40 PM- अंबेडकर महासभा परिसर जाएंगे और अंबेडकर कलश को पुष्पांजलि देंगे।
5:15 PM- वापस दिल्ली जाने के लिए अमौसी एयरपोर्ट के लिए रवाना होंगे।

पीएम मोदी के लखनऊ दौरे के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। पीएम की सुरक्षा में ढाई हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे। इसके अलावा 20 से ज्यादा आइपीएस अधिकारी भी सुरक्षा-व्यवस्था पर नजर बनाए रखेंगे। सशस्त्र बलों की दो दर्जन कंपनियों को भी पीएम की सुरक्षा में लगाया गया है।

मोदी की सुरक्षा के लिए उनके कार्यक्रम स्थल को फूलप्रूफ बनाया गया है। कार्यक्रम स्थलों पर चार दर्जन से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जिनसे पुलिसकर्मी चप्पे-चप्पे की निगरानी रखेंगे।

लखनऊ पहुंचने से पहले वाराणसी में आयोजित कार्यक्रम में मोदी ने कहा कि उन्हें राहुल नाम का एक दिव्यांग मिला। वह मानसिक विकलांग था, लेकिन उसने तुरंत कंप्यूटर चालू कर दिया था। मोदी ने दिव्यांग राहुल को लैपटॉप दिया। वहीं, दिव्यांग राहुल ने भी फूल देकर मोदी क स्वागत किया। दिल्ली से निकलते वक्त वाराणसी में दिव्यांगों के सड़क हादसे के बारे में पता चला है। घायल दिव्यांगों को जल्द ही स्वस्थ्य होने की कामना करता हूं।

Loading...

मोदी ने कहा कि यह सरकार गरीबों के लिए दौड़ने वाली सरकार है। एक साल में 1800 कैम्प लगाए गए हैं। सरकार की ऐसी योजनाओं में बिचौलिये भी आ जाते हैं। ऐसे कैम्प से बिचौलियों का अस्तित्व खत्म हो जाता है। उन्हें बिचौलियों से तकलीफ नहीं है, बल्कि इस देश की गरीब जनता की तकलीफ से तकलीफ है। केंद्र सरकार गरीबों और दलितों, शोषित वर्गों को समर्पित है। सरकार गरीबों की मदद करती रहेगी।

मोेदी ने कहा कि वे विकलांगों के प्रति सोच को बदलना चाहते हैं। विकलांग कहने पर लोग शरीर में कमी खोजने लगते हैं। दिव्यांग कहने पर शरीर में क्वालिटी की तरफ ध्यान जाता है। इसलिए लंबे वक्त से चले आ रहे शब्द विकलांग को बदलकर दिव्यांग किया। दिव्यांग बच्चों के प्रति समाज की जिम्मेदारी होती है। मन को छू लेने वाली घटनाओं को दिव्यांगों की तरह देखता हूं। पूरा परिवार दुर्बल बच्चे के लिए समर्पित हो जाता है। उनके लिए घरवाले अपनी सारी इच्छाएं मार देते हैं।

अपने वाराणसी दौरे पर मोदी ने एक बार फिर से जापान और काशी के रिश्ते का जमकर गुणगान किया है। मोदी ने कहा कि दो दिन पहले जापान के पीएम का भाषण था। उन्होंने जापान के पीएम का भाषण इन्टरनेट पर पढ़ा था। भाषण में पीएम ने मां गंगा और काशी का वर्णन किया था, उसे पढ़कर गर्व महसूस हुआ।

इससे पहले मोदी ने कार्यक्रम में दिव्यांगों को मोबाइल फोन, ट्राई साइकिल, कान की मशीन, व्‍हील चेयर, मंदबुद्धि बच्चों की किट, बैटरी मोटर ट्राई साइकिल, सेंसर लगा हुआ ब्‍लाइंड किट, टैबलेट और स्मार्टफोन) बांटें। विधवा महिलाओं को सिलाई मशीन बांटी। कार्यक्रम में मूक बधिरों तक भी मोदी का भाषण पहुंचाने की व्यवस्था थी। मंच से दो महिलाएं संकेत के माध्यम से मूक बधिरों तक पीएम के भाषण को पहुंचा रही थी। वाराणसी में कलराज मिश्र, थावर चंद गहलोत और रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा, ब्रिटिश सांसद लार्ड लुंबा भी मौजूद हैं।

वाराणसी पहुंचकर मोदी ने सबसे पहले महामना एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई। महामाना एक्सप्रेस वाराणसी से वाया लखनऊ दिल्ली जाएगी। उन्होंने कहा कि ज्यादा से ज्यादा ऐसी ट्रेनें चलनी चाहिए। वाराणसी से दिल्ली चलने वाली महामना सुपर फास्ट एक्सप्रेस महज छह स्टेशनों पर रुकेगी। इसमें सुल्तानपुर, लखनऊ, बरेली, मुरादाबाद के बाद गाजियाबाद फिर नयी दिल्ली स्टेशन पर रुकेगी। महामना एक्सप्रेस का किराया 15 फीसदी ज्यादा होगा।

यह ट्रेन वाराणसी से शाम 6 बजकर 35 मिनट हर मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को चलेगी। ट्रेन में वर्ल्‍ड क्‍लास सुविधाएं होना, किराया ज्यादा होने की वजह बताया जा रहा है। ट्रेन में नए शौचालय, एक्जॉस्ट पंखे, नई तरह के पानी के नल, एलईडी बल्ब आदि विभिन्न सुविधाएं होंगी।

मोदी का पीएम बनने के बाद यह पांचवां वाराणसी दौरा
पहली दौरा नवंबर 2014
दूसरा दौरा 25 दिसंबर 2014
तीसरा दौरा 18 सितंबर 2015
चौथा दौरा 12 दिसंबर 2015


तीन बार स्थगित हो चुका है पीएम मोदी का दौरा

14 अक्टूबर 2014 को हुदहुद के चलते
28 जून 2015 को वाराणसी समेत पूरे पूर्वांचल में भारी बारिश
16 जुलाई 2015 भारी वर्षा, पीएम का मंच सजाते करंट से माली की मौत।

पीएम बनने से पहले चार दफा आ चुके हैं मोदी
20 दिसंबर- 2013 चुनावी सभा
24 अप्रैल- 2014 को पर्चा दाखिल करने
08 मई- यानी मतदान से चार दिन पूर्व संसदीय क्षेत्र में रोड शो।
17 मई- विजयी होने के बाद श्री काशी विश्वनाथ के दरबार में पहुंचे और किया रुद्राभिषेक और गंगा आरती देखी। तब उनके साथ भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी थे।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *