Breaking News

पनामा लीक : ऐश्वर्या राय की टीम ने रिपोर्ट को ‘गलत’ और ‘फर्ज़ी’ बताया

aishwarya-raiमुंबई। सुपरस्टार अमिताभ बच्चन और उनकी बहू ऐश्वर्या राय का नाम उन दस्तावेज़ों में सामने आया है जिनके लीक होने से दुनियाभर के प्रसिद्ध लोगों और रईसों के वित्तीय लेनदेन की पोल खोल गई है। ऐसे एक करोड़ 15 लाख दस्तावेज़ लीक हुए हैं जिन्हें पनामा पेपर कहा जा रहा है और इनमें 500 भारतीयों के नाम शामिल हैं। ऐश्वर्या राय के मीडिया सलाहकार की ओर से इन सभी दस्तावजों को गलत और फर्ज़ी बताया गया है।

सोमवार को इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के अनुसार 2005 में एश्वर्या अपने परिवार के सदस्यों समेत एक विदेशी कंपनी की डायरेक्टर नियुक्त की गई थी। लेकिन 2008 में कंपनी खत्म होने से पहले उनका दर्जा सिर्फ शेयरहोल्डर का कर दिया गया था। इस मामले में अभी तक अमिताभ बच्चन की ओर से कोई टिप्पणी नहीं आई है।

हालांकि अभी तक ऐसा कोई सबूत सामने नहीं आया है कि इन बॉलीवुड हस्तियों ने अपनी कंपनी का बेजा इस्तेमाल किया या फिर ऐसी किसी विदेशी कंपनी का होना गैर कानूनी है। अंग्रेज़ी दैनिक ‘इंडियन एक्सप्रेस’ सहित मीडिया कंपनियों के समूह ने उन दस्तावेज़ों की गहरी छानबीन की, जो किसी अज्ञात सूत्र ने उपलब्ध करवाए थे। जांच से ढेरों फिल्मी तथा खेल हस्तियों के अलावा लगभग 140 राजनेताओं की छिपी संपत्ति का भी खुलासा हुआ है।

Loading...

पनामा लीक : राजनेताओं, एक्टरों, खिलाड़ियों के साथ 500 भारतीय भी – 10 खास बातें

मुंबई। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग, पाक प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ, फुटबॉलर लायनल मेसी और अभिनेता जैकी चैन समेत दुनियाभर के प्रसिद्ध लोगों और रईसों के वित्तीय लेनदेन की पोल खोलने वाले एक करोड़ 15 लाख दस्तावेज़ लीक हो गए हैं, जिन्हें पनामा पेपर कहा जा रहा है, जिनमें 500 भारतीय भी हैं।

पनामा दस्तावेज़ों से जुड़ी 10 खास बातें
  1. अंग्रेज़ी दैनिक ‘इंडियन एक्सप्रेस’ सहित मीडिया कंपनियों के समूह ने उन दस्तावेज़ों की गहरी छानबीन की, जो किसी अज्ञात सूत्र ने उपलब्ध करवाए थे। जांच से ढेरों फिल्मी तथा खेल हस्तियों के अलावा लगभग 140 राजनेताओं की छिपी संपत्ति का भी खुलासा हुआ है।
  2. नियमों को ताक पर रखकर फर्जी कंपनियों की आड़ में संपत्ति को छिपाने के लगातार फैलते कारोबार में 35 से भी अधिक देशों में दफ्तर स्थापित कर चलाई जा रही एक महत्वपूर्ण कंपनी पनामा स्थित लॉ फर्म मोसैक फॉन्सेका (Mossack Fonseca) से लीक हुए इन लाखों दस्तावेज़ों की जांच-पड़ताल 300 से भी ज़्यादा पत्रकारों ने की।
  3. ‘इंडियन एक्सप्रेस’ का कहना है कि 36,000 से भी ज़्यादा फाइलों की आठ महीने तक चली उसकी जांच से विदेशों में स्थित कंपनियों, फाउंडेशनों और ट्रस्टों में लगभग 500 भारतीयों के नाम भी सामने आए हैं। समाचारपत्र के अनुसार, उन्होंने 300 से ज़्यादा पतों की पुष्टि भी की है।
  4. वर्ष 2003 से पहले भारतीयों को विदेशों में कंपनियां स्थापित करने की इजाज़त नहीं थी। वर्ष 2004 में पहली बार लोगों को व्यक्तिगत रूप से विदेशों में एक सीमा तक फंड भेजने की अनुमति दी गई। वर्ष 2013 में नियम बदला गया, और भारतीयों को विदेशों में सब्सिडियरी कंपनियां खोलने और संयुक्त उपक्रमों में निवेश की अनुमति दी गई, लेकिन अधिकतर मामलों में कंपनियां पहले ही खोली जा चुकी थीं।
  5. इस जांच में एक दर्जन ऐसे राजनेता शामिल हैं, जो मौजूदा समय में राष्ट्राध्यक्ष हैं या पहले रह चुके हैं। इनमें चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ तथा सऊदी अरब के राजा शामिल हैं।
  6. दस्तावेज़ के मुताबिक शी चिनफिंग तथा उनके परिवार के विदेशी कंपनियों से संबंध हैं। दिलचस्प तथ्य यह है कि शी चिनफिंग ने अपने देश चीन में कम्युनिस्ट पार्टी सदस्यों द्वारा गैरकानूनी ढंग से एकत्र की गई संपत्ति को निशाना बनाते हुए बहुत बड़े स्तर पर एक भ्रष्टाचार-रोधी अभियान चलाया था।
  7. जांच से यह भी सामने आया है कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर का नाम दस्तावेज़ों में कहीं नहीं है, लेकिन पुतिन के करीबी लोगों ने ‘बैंकों तथा फर्जी कंपनियों की मदद से लगभग दो अरब अमेरिकी डॉलर खुफिया तरीके से इधर-उधर किए…’
  8. फुटबॉल खिलाड़ी लायनल मेसी तथा उनके पिता कथित रूप से एक फर्जी कंपनी के मालिक हैं, जिसका पता स्पेन में मेसी के टैक्स मामलों को लेकर हुई जांच में नहीं चला था।
  9. रिपोर्टों के मुताबिक, भले ही अंतरराष्ट्रीय खोजी पत्रकार संघ या इंटरनेशनल कन्सॉर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (International Consortium of Investigative Journalists – ICIJ) द्वारा अधिकतर कथित सौदों को कानूनी बताया जा रहा है, लेकिन इनका उन लोगों पर गंभीर राजनैतिक प्रभाव पड़ सकता है, जिनके नाम इसमें सामने आए हैं।
  10. पनामा दस्तावेज़ उस वक्त सामने आए हैं, जब भारत सरकार द्वारा काले धन को लेकर बनाई गई स्पेशल इन्वेस्टिगेटिंग टीम (एसआईटी) अपनी नई एक्शन टेकन रिपोर्ट को अंतिम रूप देने जा रही है। वैसे, विदेशों में मौजूद संपत्तियों का खुलासा करने के लिए चलाई गई 90 दिन की योजना के जरिये सिर्फ 3,770 करोड़ रुपये ही सामने आ पाए हैं।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *