Breaking News

इन 5 युवाओं को मिल सकता है भारतीय जर्सी में खेलने का मौका

आईपीएल का सीजन 11 चेन्नई सुपर किंग्स की धमाकेदार खिताबी जीत के साथ खत्म हो गया है। इस लीग में कई लाजवाब बल्लेबाज और गेंदबाज उभर कर आए। जहां एक ओर एंड्रू टाय को पर्पल कैप मिली, वहीं दूसरी ओर केन विलियमसन को ऑरेंज कैप हासिल हुई। भले ही आईपीएल के ये दो बड़े खिताब विदेशी प्लेयरों के नाम रहे हों, लेकिन इस टूर्नामेंट में कई युवा भारतीय क्रिकेटरों ने भी उम्मीद से बढ़कर प्रदर्शन किया।

इस बार भी कुछ ऐसे युवा चेहरे सामने आए जिन्होंने बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग में कमाल का प्रदर्शन किया है। आइए जानते हैं वो कौनसे युवा खिलाड़ी हैं जो अपनी IPL परफॉर्मेंस के दम पर भारतीय टीम में डेब्यू कर सकते हैं:

1.पृथ्वी शॉ
अंडर 19 टीम के कप्तान रहे पृथ्वी शॉ ने इस आईपीएल में अपनी काबीलियत का परिचय सबको दे दिया। दिल्ली के लए दमदार ओपनिंग करते हुए उन्होंने 9 मैचों में 245 रन बनाए, जिसमें उनका स्ट्राइक रेट 150 से ज्यादा का रहा। शॉ की ताबड़तोड़ बैटिंग देखकर क्रिकेट के कई दिग्गजों ने उनकी तारीफ की। 18 साल के पृथ्वी शॉ को भारतीय टी-20 टीम में ओपनिंग का मौका मिल सकता है।

2. ईशान किशन
भारतीय अंडर 19 टीम के एक और धाकड़ बल्लेबाज ईशान किशन से आईपीएल में जलवा दिखाने की उम्मीद थी और काफी हद तक उन्होंने ऐसा किया भी। भले ही मुंबई की टीम दुर्भाग्य से प्लेऑफ में जगह नहीं बना सकी लेकिन ईशान किशन की बल्लेबाजी ने सबका ध्यान जरूर खींचा। ईशान ने 14 मैच खेले और 275 रन बनाए, जिसमें उनकी स्ट्राइक रेट भी लगभग 150 की रही। इसी के साथ ईशान का सर्वाधिक स्कोर 62 रन था। बांए हाथ के स्टाइलिश और आक्रामक बल्लेबाज होने के कारण ईशान किशन को भारत के लिए टी-20 में जगह मिलने की उम्मीद रखनी चाहिए।

3. सिद्धार्थ कौल
आईपीएल 2018 के सबसे शानदार नए गेंदबाजों की बाद करें तो उसमें सबसे पहला नाम 28 साल के सिद्धार्थ कौल का आता है। कौल, उपविजेता हैदराबाद की घातक बॉलिंग यूनिट का अहम हिस्सा रहे। वो लीग में तीसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले बॉलर रहे हैं। सिद्धार्थ ने 17 मैच खेले और 21 विकेट हासिल किए। उनकी इकोनॉमी रेट 8.28 की थी जबकि, एवरेज करीब 26 का रहा। सिद्धार्थ की स्लो बॉलिंग और यॉर्कर आईपीएल में काफी हिट रही। भारतीय टीम में उन्हें मौका मिलने की पूरी संभावना है।

Loading...

4. मयंक मार्कंडे
आईपीएल की शुरुआत से ही मुंबई के मयंक मार्कंडे ने सभी खिलाड़ियों को हैरान कर दिया। लेग स्पिनर मार्कंडे ने 14 मैच में 8.36 की इकोनॉमी से 15 विकेट हासिल किए। मार्कंडे ने अपनी रिस्ट स्पिन से बड़े-बड़े बल्लेबाजों को फंसाया। अगर भारतीय टीम टी-20 में कुल्दीप और चहल की जोड़ी के अलावा कोई बॉलर खोजती है तो मयंक अच्छी चॉइस हो सकते हैं।

5. दीपक चाहर
चेन्नई सुपर किंग्स ने तीसरी बार आईपीएल का खिताब जीतकर शानदार वापसी की। सीनियर खिलाड़ियों की चेन्नई टीम में एक युवा चेहरा ऐसा था जिसने बॉलिंग यूनिट में काफी धमाल मचाया। ये नाम है दीपक चाहर। चाहर ने 12 मैचों में 7.28 की इकोनॉमी से 10 विकेट हासिल किए। चाहर की खास बात ये है कि वो शुरुआती ओवरों में बेहद तेज गति की गेंद से बल्लेबाजों को परेशान कर सकता है। भारतीय टीम में चाहर एक ओपनिंग गेंदबाज के रूप डेब्यू कर सकते हैं।

Loading...