Tuesday , November 24 2020
Breaking News

विधानसभा चुनाव: बिहार की हार के बाद ‘मजबूर’ BJP ने बदली रणनीति

asam-PTIनई दिल्ली। असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल जैसे राज्यों के इस बार के विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ BJP की रणनीति में बड़ा बदलाव देखा जा रहा है। बिहार चुनावों की तुलना में देखें तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल और असम में पार्टी के प्रचार के लिए केवल दो दिन दिए हैं। हालांकि इन राज्यों में पार्टी के चुनावी हिसाब किताब में प्रधानमंत्री मोदी एक अहम फैक्टर हैं।

BJP के कैम्पेन में प्रधानमंत्री मोदी की प्रोफाइल भले ही कमतर दिख रही हो लेकिन उन्होंने अपने भाषणों में ममता बनर्जी और तरुण गोगोई पर तीखा हमला बोला है। प्रधानमंत्री के भाषण विकास के अजेंडे के इर्द-गिर्द सिमटे हुए दिख रहे हैं और वह अपने विरोधियों खासकर कांग्रेस के पुराने रिकॉर्ड को टारगेट कर रहे हैं। दोनों ही राज्यों में प्रधानमंत्री मोदी का रवैया बिहार के चुनावी अभियान के तौर तरीकों से हटकर दिख रहा है।

BJP के चुनावी संदेश में आए इस बारीक बदलाव की वजह यह बताई जा रही है कि बिहार के कैम्पेन में प्रधानमंत्री मोदी विकास के अजेंडे से भटक कर बीफ जैसे हिंदुत्व के मुद्दे पर आ गए थे। नतीजे में निराशा हासिल हुई और प्रधानमंत्री के विकास की साख पर सवाल खड़े हुए। पश्चिम बंगाल और असम में BJP के चुनावी तरकश में जनसंख्या की संरचना और हिंदुत्व दोनों ही मुद्दे हैं। इन दोनों राज्यों में अवैध रूप से आए बांग्लादेशी एक चुनावी मुद्दा है।

हालांकि प्रधानमंत्री मोदी अभी तक इन मुद्दों पर बचकर बोलते हुए दिखे हैं। बिहार में मोदी ने 10 दिनों में 31 रैलियों को संबोधित किया था जबकि मौजूदा चुनावों का BJP के लिए अधिक चुनौतीपूर्ण होने के बावजूद उनके कैम्पेन में कटौती एक सोचा समझा कदम मालूम देता है। हालांकि मोदी की व्यस्तता भी इसका एक पहलू है। प्रधानमंत्री फिलहाल विदेश दौरे पर हैं और तीन देशों की यात्रा से वह चार अप्रैल को भारत लौटेंगे। तब पश्चिम बंगाल और असम में चुनाव के पहले चरण का वक्त होगा।

BJP के दूसरे नेता जैसे गृह मंत्री राजनाथ सिंह, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी और ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर नितिन गडकरी पार्टी के प्रचार अभियान में लगे हुए हैं। हालांकि उनकी रैलियां प्रधानमंत्री की तुलना में ज्यादा भीड़ आकर्षित नहीं कर पा रही हैं। बिहार में BJP के दूसरे नेता नुक्कड़ रैलियां करते हुए दिख रहे थे।

Loading...

पार्टी के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि बचे हुए चरणों में भी प्रधानमंत्री मोदी की भागीदारी इसी अनुपात में दिखेगी। पश्चिम बंगाल के लिए वह एक या दो दिन चुनाव प्रचार कर सकते हैं। लेकिन असम में अब उनके और कैम्पेन के आसार कम ही हैं। असम में चुनाव 4 और 11 अप्रैल को है जबकि पश्चिम बंगाल में छह चरणों में चुनाव है जो 4 अप्रैल से 5 मई तक चलेगा। इस बात की भी संभावना है कि मोदी ने बिहार में जितनी रैलियों को संबोधित किया था, उसकी तुलना में इस बार वह पांच राज्यों में भी उतनी रैलियां नहीं करेंगे।

तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में 16 अप्रैल को चुनाव होना है और पार्टी सूत्रों का कहना है कि इन राज्यों में प्रधानमंत्री का दौरा संक्षिप्त ही रहेगा। केरल में शायद पार्टी ज्यादा फोकस करेगी। BJP के चुनाव प्रबंधक प्रधानमंत्री मोदी की छवि को लेकर इस बार ज्यादा सतर्क हैं और वे बिहार के अनुभवों से सबक लेते हुए दिख रहे हैं। हालांकि BJP का कहना है कि प्रधानमंत्री पार्टी की जरूरतों को समझते हैं और उसे लेकर उदार भी हैं।

पार्टी प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने बताया, ‘प्रधानमंत्री पार्टी के प्रति प्रतिबद्ध हैं और वह जरूरत के मुताबिक प्रचार कर रहे हैं। हमारे लिए सभी राज्य महत्वपूर्ण हैं। इसके अलावा पार्टी के कई नेता चुनाव वाले राज्यों में कैम्पेन कर रहे हैं। पार्टी अध्यक्ष असम और पश्चिम बंगाल में कैम्प कर रहे हैं और रोजाना तीन से पांच रैलियों को संबोधित कर रहे हैं।’

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *