Breaking News

कोलकाताः निर्माणाधीन फ्लाईओवर गिरा, कई लोगों के मरने की आशंका

dead coकोलकाता। उत्तरी कोलकाता में गुरुवार दोपहर निर्माणाधीन फ्लाईओवर का बड़ा हिस्सा गिरने से बड़ी संख्या में लोगों के हताहत होने की आशंका है। कोलकाता पुलिस के मुताबिक बड़ा बाजार इलाके में गणेश सिनेमा के पास हुए इस हादसे में अभी तक 21 लोगों की मौत की पुष्टि हो गई है। बताया जा रहा है कि कम-से-कम 150 लोग मलबे के नीचे दब गए हैं। पुलिस ने बताया कि फ्लाईओवर के मलबे के नीचे बहुत से यात्री, वाहन, ट्रक और रिक्शा दब गए हैं। राज्य की सीएम ममता बनर्जी ने मामले की जांच के लिए छह सदस्यीय समिति गठित की है। फ्लाईओवर के निर्माण में लगी कंपनी आईवीआरसीएल के खिलाफ तीन केस दर्ज किए गए हैं। ईस्टर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल प्रवीन बख्शी ने भी घटनास्थल का दौरा किया है।

पीएम मोदी ने हादसे पर पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि वह राहत-बचाव कार्यों पर नजर बनाए हुए हैं। रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए सेना बुला ली गई है। स्थानीय पुलिस के साथ अर्दधसैनिक बलों की टुकड़ी भी राहत कार्यों में जुट गई है। राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की दो टीमें घटनास्थल के लिए रवाना कर दी गई हैं। चुनाव प्रचार में व्यस्त मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हादसे की खबर मिलते ही घटनास्थल पर पहुंचीं और राहत कार्य का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिए गए हैं: ये हैं 1070, 033-22143526/033-22535185/ 033-22145664, फैक्स: 033-22141378

राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों के लिए 5 लाख और घायलों के लिए 2-2 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा कर दी है। पुलिस, अग्निशमन और आपदा बचाव दल के कर्मचारी दुर्घटनास्थल पर पहुंच गए हैं और बचाव काम में जुटे हुए हैं। दुर्घटना में घायल व्यक्तियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

चश्मदीदों के मुताबिक, दोपहर 12 बजे के करीब गणेश सिनेमा के पास चितपुर रोड और एमजी रोड के चौराहे पर विवेकानंद फ्लाईओवर का बड़ा हिस्सा गिर गया। यह फ्लाईओवर कोलकाता से हावड़ा की ओर जाने वाले रास्ते पर बन रहा था और स्थानीय निवासियों ने बताया कि इसका जो हिस्सा ढहा है, उसकी ढलाई बुधवार रात में हुई थी।

हादसे की वजह से इलाके में ट्रैफिक थम गया है। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि जब फ्लाईओवर का हिस्सा गिरा तो लगा जैसे भूकंप आ गया हो। फ्लाईओवर के नीचे कुछ मकान और वाहनों के दबे होने की बात भी सामने आई है।

फ्लाईओवर के नीचे बहुत-सी गाड़ियां खड़ी थीं, जैसे ही पुल का हिस्सा गिरा गाड़ियों में आग लग गई। पुलिस का कहना है कि तीन लोगों की मौत हो गई और घायलों में कई की हालत नाजुक है। राहत कार्य के लिए कटर और क्रेन की व्यवस्था की जा रही ताकि मलबे को हटाया जा सके। पुलिस ने बताया कि मलबे में से अभी तक दो लोगों को जिंदा निकाला गया है।

दुर्घटना पर विरोधी दलों ने राज्य की तृणमूल सरकार को कठघरे में खड़ा किया है। सीपीएम संसाद मोहम्मद सलीम ने सवाल उठाते हुए कहा है कि आखिर ब्रिज का काम दिन में क्यों किया जा रहा था? केंद्र सरकार में मंत्री और बंगाल के आसनसोल से सांसद बाबुल सुप्रियो ने फ्लाई ओवर हादसे के पीछे लापरवाही का आरोप लगाया है। बीजेपे नेता और पश्चिम बंगाल के पार्टी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि इस दुर्घटना के लिए ममता सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि जिम्मेदार मंत्रियों और लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *