Thursday , November 26 2020
Breaking News

नौकरी चाहने वालों के व्यक्तिगत विवरण में विसंगतियां: रिपोर्ट

Job10नई दिल्ली। नौकरी पाने के लिए एंप्लॉयर को भेजे गए रिज्यूमे में गड़बड़ी करने में पुरुष महिलाओं से बहुत आगे हैं। यह बात एक रिपोर्ट में सामने आई है जिसके मुताबिक, पिछले साल की चौथी तिमाही (अक्टूबर से दिसंबर 2015) में पुरुषों के रिज्यूम में गड़बड़ियों का प्रतिशत जहां 80 प्रतिशत था, वहीं महिलाओं के मामले में यह महज 20 प्रतिशत रहा। यानी, नौकरी पाने के लिए अपने बारे में सूचना देने के लिहाज से महिलाएं पुरुषों के मुकाबले चार गुना ईमानदार होती हैं।

फर्स्ट अडवांटेज ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि नौकरी चाहने वालों के रिज्यूम या व्यक्तिगत परिचय में विभिन्न तरह की गड़बड़ियां होती हैं और पिछले साल की अक्टूबर से दिसंबर तिमाही में ऐसे लोगों में 11 प्रतिशत से ज्यादा के रिज्यूम में विसंगतियां पाई गईं। रिपोर्ट ‘बैकग्राउंड स्क्रीनिंग ट्रेंड्स रिपोर्ट: इंडिया’ में यह निष्कर्ष निकाला है। इसके अनुसार 2015 की चौथी तिमाही में नौकरी चाहने वालों के रिज्यूम में विसंगतियों का प्रतिशत 11.6 प्रतिशत रहा। इसका मतलब है कि हर 100 प्रत्याशियों में से 11 के रिज्यूम में कोई न कोई खामी पाई गई। यह आंकड़ा जुलाई-सितंबर 2015 तिमाही में 11 प्रतिशत था।

यह रिपोर्ट देशभर में फर्स्ट अडवांटेज द्वारा बैकग्राउंड वेरिफिकेशंस और रेफेरेंस चेक्स के दौरान जुटाए गए आंकड़ों के आधार पर तैयार की गई। रिपोर्ट के रिजल्ट्स महत्वपूर्ण गड़बड़ियों के प्रकार के आधार पर अलग-अलग भागों में बांटे गए, जिनमें रोजगार, शिक्षा, आर्थिक स्थिति से संबंधित, पता और डेटाबेस आदि शामिल हैं। इनके तहत कार्यक्षेत्र, राज्यों, क्षेत्रों, उद्योग, आयु, लिंग और ऐसे ही कुछ अन्य नजरिए से गड़बड़ियों की जांच की गई।

Loading...

रिपोर्ट के मुताबिक, 38 प्रतिशत के साथ सबसे ज्यादा फर्जीवाड़ा बीएफएसआई सेक्टर में पाया गया, वहीं 23 प्रतिशत के साथ आईटी सेक्टर दूसरे नंबर पर रहा। इंजिनियरिंग सेक्टर में रोजगार विसंगतियों में अधिकतम वृद्धि (तीसरी तिमाही में 10.5 प्रतिशत से बढ़कर चौथी तिमाही में 13.8 प्रतिशत) दर्ज की गई। इसके बाद नंबर हेल्थकेयर और फार्मा सेक्टर (तीसरी तिमाही में 10.7 प्रतिशत से चौथी तिमाही में बढ़कर 12.2 प्रतिशत) का आता है। रिपोर्ट कहती है कि एंप्लॉयमेंट, अड्रेस और एजुकेशन से जुड़ी जानकारियों में क्रमशः 59.3 प्रतिशत, 12.3 प्रतिशत और 5.1 प्रतिशत गड़बड़ियां पाई गईं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *