Breaking News

14 का मर्डर: हत्याकांड का रीक्रिएशन करेगी पुलिस

suicide2mठाणे। 28 फरवरी को ठाणे के कासरवडवली गांव में हुए हत्याकांड की गुत्थी अब तक सुलझी नहीं है। पुलिस इस हत्याकांड को रीक्रिएट करना चाहती है। इस हत्याकांड में एकमात्र जिंदा बची युवती सुबिया अस्पताल में भर्ती थी, जो अब कासरवडवली गांव के अपने घर में नहीं जाना चाहती। वहीं, गांव के अन्य लोग भी इस हत्याकांड के बाद दहशत में हैं। इस हत्याकांड में एक युवक ने अपने 14 परिजन की हत्या कर खुदकुशी कर ली थी।

गौरतलब है कि पुलिस ने पिछले शनिवार को इस हत्याकांड से जुड़ी कुछ चौकाने वाली बातें सामने रखी थीं, लेकिन अभी भी मामले की गुत्थी उलझी हुई है। यही कारण है कि अब पुलिस वारदात स्थल पर घटना का रीक्रिएशन करना चाहती है। घटना के बाद से ही घर को पुलिस ने सील कर दिया था। पुलिस के अधिकारियों ने विगत शुक्रवार और उसके बाद सोमवार को फिर से घटनास्थल का मुआयना किया।

घटना के बाद से घर की अभी तक साफ-सफाई नहीं की गई है और घर में अभी भी खून के छींटे और अन्य सामान उसी तरह बिखरे पड़े हैं। पुलिस की तरफ से और अधिक छानबीन के लिए अभी तक सामानों और अन्य चीजों को हटाया नहीं गया है। फर्श पर और इधर-उधर दीवारों पर लगे खून के धब्बों को साफ नहीं किया गया है।

घर से निकलने में लगता है डर

Loading...

घटना को भले ही दस दिन बीत गए हैं लेकिन गांव के लोगों में अभी भी उसी तरह की दशहत बनी हुई है। गांव के लोग देर रात घर से बाहर निकलने और अनवर वरेकर के घर के करीब आने से कतराते हैं। बताया गया है की गांव के कई घरों में घर के सदस्य अलग-अलग कमरों में न सोकर डर के चलते एक ही कमरे में सो रहे हैं। यह भी बताया गया है कि घटना के बाद से वडवली गांव की छवि इस कदर धूमिल हुई है कि बाहर के लोग गांव से अपना रिश्ता नहीं जोड़ना चाह रहे हैं।

विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार घटना के चलते हुई गांव की बदनामी से दो युवकों की सगाई टूट चुकी है, क्योंकि लोग अपनी बेटी को खूनी गांव में नहीं भेजना चाहते हैं। कासरवडवली गांव में 1500 परिवार रहते हैं, जिसमें से आधे वरेकर परिवार के लोग हैं। पुलिस ने इस बारे में कुछ कहने से इनकार किया है। बताया गया है कि घटना के चलते सुबिया इस कदर टूट गई है कि वह अपने मायके के घर की तरफ देखना नहीं चाहती है। सुबिया को शनिवार को उसकी बेटी अल्फिया की मौत की खबर दी गई। एक पुलिस अधिकारी के अनुसार उक्त खबर को सुन सुबिया काफी देर तक रोती रही थी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *