Breaking News

पीएम मोदी ने बरेली में किसान रैली को किया संबोधित

Modi bबरेली। पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को बरेली में किसान रैली को संबोधित किया, इस रैली में देश के गृह मंत्री राजनाथ सिंह, कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह भी उनके साथ मौजूद थे। पीएम मोदी ने किसान रैली की शुरुआत करते हुए कहा कि उन्हें बरेली की धरती से पहली बार उत्तर प्रदेश के किसानों से बात करने का मौका मिला है, उन्होंने कहा कि देश का किसान श्रम का देवता है, ऐसे सभी किसानों को मैं आदरपूर्वक नमन करता हूं।
पीएम मोदी ने सरकार की कृषि से जुड़ी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, सॉइल हेल्थ कार्ड और प्रधानमंत्री सिंचाई योजना जैसी विभिन्न योजनाओं का जिक्र किया। उन्होंने मनरेगा के बहाने पुरानी सरकार पर भी निशाना साधा और साथ ही अपनी सरकार के किसानों के हक में किए गए कामों को गिनाया।

पीएम मोदी ने कहा कि उनकी इच्छा है कि 2022 में जब देश अपनी स्वतंत्रता के 75 वर्ष का जश्न मना रहा हो तब तक हमारे किसान की आय दोगुनी हो जाए। साथ ही उन्होंने किसानों से अनुरोध किया कि उनके परिवार से एक व्यक्ति नौकरी करे ताकि किसान का परिवार केवल कृषि पर ही निर्भर न रहे।

पीएम मोदी ने अपनी सरकार के आने के बाद दूध उत्पादन में रेकॉर्ड बढ़ोतरी की बात कही पीएम ने कहा कि उनकी सरकार आने के बाद इस साल 1 हजार 465 लाख टन दूध का उत्पादन हुआ है।

Loading...

पीएम मोदी ने कहा कि बुंदेलखंड में पानी की व्यवस्था नहीं है जबकि यहां पांच-पांच नदियां हैं। पीएम मोदी ने 50 हजार करोड़ योजना की प्रधानमंत्री किसान सिंचाई योजना की बात कही। उन्होंने कहा कि एक-एक बूंद सब बचाएं। सब कोशिश करें कि गांव का पानी गांव में रहे। उन्होंने युवाओं से अपील की कि वह अपने गांव में नालियां बनाएं जिससे बारिश का पानी कहीं जाकर जमा हो जाए।

मनरेगा का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इससे पहले मनरेगा में क्या हुआ हमें पता नहीं है। उन्होंने कहा पहले मनरेगा में क्या हुआ यह भगवान जाने, आपके गांव में भी मनरेगा के पैसे आए होंगे, लोगों की जेब में गए होंगे। पीएम ने किसानों को अपने खेत में ज्यादा दवाई के इस्तेमाल पर ध्यान देने के लिए कहा। उन्होंने अपनी सरकार की सॉइल हेल्थ कार्ड योजना का जिक्र किया। उन्होंने उदाहरण दिया कि जब हम बीमार पड़ते हैं तो हेल्थ चेक अप कराते हैं तो अपनी जमीन का क्यों नहीं कराते। पीएम ने कहा कि हम सॉइल हेल्थ कार्ड को भारत के एक-एक किसान तक पहुंचाना चाहते हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *