Breaking News

फर्जीवाड़ा: सी-फेसिंग विला बनाने के लिए ऐसे किसान बन गए शाहरुख

नई दिल्ली। दुनिया के रईस एक्टर्स की लिस्ट में शुमार शाहरुख खान अपनी प्रॉपर्टी लिस्ट को लेकर भी चर्चा में रहते हैं. शाहरुख अब अपनी लेटेस्ट प्रॉपर्टी को की वजह से चर्चाओं में आए हैं. मुंबई के अलीबाग में विला बनाने को लेकर उन पर खेती की जमीन पर बंगला बनाने के लिए जालसाजी और नियमों की अनदेखी का आरोप लग रहा है.

किसान बन गए शाहरुख!

भले ही शाहरुख खान की कई पीढ़ियों ने खेत-खलिहान नहीं देखे हों, लेकिन सरकारी दस्तावेजों में वो बाकायदा किसान हैं. दरअसल, शाहरुख ने मुंबई के अलीबाग में सी फेसिंग बंगला जिस जमीन पर तैयार कि‍या है सरकारी रिकॉर्ड में ये खेती की जमीन के तौर पर दर्ज है. ये जमीन समंदर किनारे मौजूद है.

हाल ही में शाहरुख खान ने अपने जन्मदिन के मौके पर यहां एक आलीशान पार्टी ऑर्गनाइज की थी. इसी दौरान एक एमएलसी से उनका विवाद भी हो गया था. अब आरोप है कि अलीबाग में जिस पांच एकड़ जमीन पर शाहरुख का बंगला बना है वो जमीन उन्होंने खेती करने के नाम पर खरीदा था, हालांकि उस पर उन्होंने एक शानदार बंगला बनवा लिया.

ये आरोप  महाराष्ट्र के पर्यावरणविद सुरेंद्र धवले ने लगाए हैं. उन्होंने ठाणे के खार पुलिस स्टेशन में लिखि‍त रूप में इसकी शि‍कायत भी की है. इसके मुताबिक शाहरुख और उनकी पत्नी ने जमीन के लिए फर्जीवाड़ा किया.

Loading...

क्या है पूरा मामला ?

जानकारी के मुताबिक, साल 2004 में डेजा वू फार्म्स प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी के जरिए ये जमीन खरीदी गई थी. कहा गया कि डेजा वू कंपनी खेती और खेती के विकास का काम इस जमीन पर करेगी. आरोप के मुताबिक, डेजा वू फार्म्स नाम की कंपनी ने साल 2004 से अब तक खेती बाड़ी के मद में एक रुपये का काम नहीं किया है. डेजा वू फार्म्स कंपनी के नाम पर शाहरुख खान ने 2006-07 में 8 करोड़ 45 लाख रुपये का लोन लिया था. जो अब तक चुकाया नहीं गया है. सरकारी दस्तावेज में इस कंपनी के डायरेक्टर शाहरुख के ससुर और गौरी खान के पिता रमेश छिब्बा हैं.

इनके अलावा गौरी खान की मां सविता छिब्बा और उनके भाई की पत्नी नमिता छिब्बा का नाम भी इस कंपनी के मालिकों में शामिल है. बता दें शाहरुख के अलीबाग में विला और मन्न्त के अलावा दुबई, लंदन और दि‍ल्ली में भी शानदार बंगले हैं, जिनकी कीमत करोड़ों में बताई गई है.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *