Breaking News

सपा में तो अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव के बीच हुई रार, शिवपाल की करीबी क्षमा जैन सक्सेना लड़ेंगी निर्दलीय

लखनऊ/आगरा । यूपी निकाय चुनाव में सपा, भाजपा और बसपा ने अपने प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं। ऐसे में सभी दलों में टिकट को लेकर रार देखने को मिल रही हैं। वहीं सपा में तो अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव के बीच हुई रार का असर अभी भी दिखाई दे रहा है। जयपुर हाउस से पार्षद रहीं क्षमा जैन सक्सेना को विधानसभा चुनाव में दक्षिण विधानसभा से टिकट मिला था, लेकिन बाद में कांग्रेस से समझौता होने के कारण उनका टिकट काट दिया गया। हालाँकि उनको मनाने की कोशिशे जारी है.

हैरत की बात तो ये है कि इस बार सपा से उनके लिए मेयर प्रत्याशी के रूप में चर्चा चल रही थी, लेकिन उन्हें पार्षद का टिकट भी नहीं मिल सका। टिकट कटने के बाद क्षमा ने सपा महासचिव रामजीलाल सुमन को इस मामले में अवगत कराया। इस पर उन्होंने कहा कि वे इस मामले को देखेंगे। यही कारण भी माना जा रहा है कि यूपी  में आगरा दक्षिण से क्षमा जैन सक्सेना का टिकट काट दिया गया था, तो वहीं अब निकाय चुनाव में उन्हें  हाउस वार्ड 74 से भी टिकट नहीं मिला है। क्षमा जैन सक्सेना शिवपाल सिंह यादव की करीबी मानी जाती हैं।

Loading...

क्षमा जैन सक्सेना ने टिकट कटने के बाद निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। उन्होंने बताया कि वह पार्टी से बगावत नहीं कर रही हैं। निचले स्तर पर उनके साथ धोखा हुआ है। उन्होंने हमेशा पार्टी हाईकमान की बातों को माना है। उनके क्षेत्र की जनता चाहती है कि वे चुनाव लड़ें, इसलिए वे निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन पत्र दाखिल करेंगी। सपा के शहर अध्यक्ष रईसउद्दीन ने कहा कि क्षमा जैन सक्सेना ने देर से आवेदन किया था। उसके बाद भी संशोधित सूची भेजी गई थी। उनके नाम पर रविवार को गंभीरता के साथ विचार किया जाएगा। क्षमा जैन सक्सेना शिवपाल यादव की करीबी मानी जाती हैं। समाजवादी पार्टी के बड़े नेता अब क्षमा जैन सक्सेना को मनाने में लगे है लेकिन उनका कहना है कि  टिकट फाइनल करके अंतिम समय में क्यों काट दिया गया.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *