Breaking News

रोहिंग्या मुसलमानों के भारत में आने के पीछे बड़ी साजिशः RSS

भोपाल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने रोहिंग्या मुसलमानों के मुद्दे पर मोदी सरकार का खुलकर समर्थन किया है. रोहिंग्या संकट पर RSS के रुख को साफ करते हुए सर कार्यवाह सुरेश भैयाजी जोशी ने कहा कि म्यांमार सरकार द्वारा रोहिंग्या मुसलमानों को देश से निकाले जाने के पीछे बड़ा कारण रहा है. कोई भी बिना किसी कारण के इतने उच्च स्तर पर रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ फैसला नहीं ले सकता है. भोपाल में तीन दिवसीय RSS की राष्ट्रीय कार्यकारणी बैठक के समापन पर भैयाजी जोशी ने कहा कि जहां तक हमारा सवाल है, तो हमें लगता है कि भारत में रोहिंग्या मुसलमानों के आने के पीछे बड़ी साजिश है.

सुरेश भैयाजी जोशी ने कहा सवाल किया कि आखिर रोहिंग्या मुसलमान सिर्फ जम्मू और हैदराबाद ही क्यों जा रहे हैं? ये आधार कार्ड और वोटर आईडी कैसे हासिल कर रहे हैं? शनिवार को उन्होंने कहा कि मानवता के आधार पर रोहिंग्या मुस्लिमों की मदद करने में हमें कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन मानवता के आधार पर मिलने वाली मदद सीमित होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि रोहिंग्या मुस्लिमों को एक निश्चित अवधि के लिए सीमा पर शरण दिया जाना चाहिए.

दिवाली में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली समेत एनसीआर में पटाखा बिक्री पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले और प्रदूषण फैलाने वाले पटाखों पर बैन लगाया जाना चाहिए, लेकिन सभी पटाखों पर बैन नहीं लगाना चाहिए. सभी पटाखे प्रदूषण नहीं फैलाते हैं. उन्होंने कहा कि इसके लिए संतुलित दृष्टिकोण अपनाना चाहिए.

Loading...

RSS सरकार्यवाह ने कहा कि कल को कुछ लोग यह कहने लगें कि दीपक जलाने से भी पर्यावरण पर बुरा असर पड़ता है, तो क्या इस पर भी बैन लगा दिया जाएगा? इसके अलावा मौजूदा अर्थव्यवस्था के हालात पर उन्होंने कहा कि सरकार को जड़ नहीं होना चाहिए और जनता के सुझाव के लिए रास्ता खुला होना चाहिए.

इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सूची में शामिल किया गया है और उनकी हत्या पर राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक शुरू होने के समय संवेदना व्यक्त की गई. उन्होंने कहा कि हमारे प्रांत प्रचारक ने गौरी लंकेश की हत्या की पहले ही निंदा कर चुके हैं.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *