Breaking News

सावधान चीन, अब तुम्हारी हर हरक्कत का जोरदार जवाब देगा भारत

नई दिल्ली। भारत-चीन सीमा पर चीनी सैनिकों को ‘नमस्ते’ करना सिखाती नजर आईं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण का दौरा एक खास रणनीति के तहत किया गया था। सिक्किम-भूटान-तिब्बत ट्राइ-जंक्शन के दौरे को उस रणनीति का हिस्सा बताया जा रहा है जिसके तहत अब भारत चीन की हर चाल का जवाब देने की योजना बना रहा है। खास तौर पर भारत अब चीन की ‘सलामी स्लाइसिंग’ की रणनीति को काउंटर करने का प्लान तैयार कर रहा है।

सीतारमण के दौरे से यह बात निकल कर सामने आई है कि भारत अब बॉर्डर के इलाकों में विकास पर पूरा जोर देगा, क्योंकि उन इलाकों में विकास न होने के चलते ही चीन को यहां दखल देने का मौका मिलता है। रक्षा मंत्री का प्लान 4,057 किलोमीटर लंबी लाइन ऑफ ऐक्चुअल कंट्रोल (LAC) के नजदीक बुनियादी ढांचे का विकास करने को लेकर है।

सलामी स्लाइसिंग का मतलब है- पड़ोसी देशों के खिलाफ छोटे-छोटे सैन्य ऑपरेशन चलाकर धीरे-धीरे किसी बड़े इलाके पर कब्जा कर लेना। ऐसे ऑपरेशन इतने छोटे स्तर पर किए जाते हैं कि इनसे युद्ध की आशंका नहीं होती, लेकिन पड़ोसी देश के लिए यह समझना मुश्किल होता है कि इसका जवाब कैसे और कितना दिया जाए। चीन ऐसे कई छोटे-छोटे ऑपरेशन चलाकर कई इलाकों पर कब्जा कर चुका है। ऐसे मामलों में अंतरराष्ट्रीय डिप्लोमैसी का ध्यान खींचना बार-बार नहीं खींचा जा सकता।

बॉर्डर के इलाकों में चीन अपनी विकास योजनाओं के जरिए भारत के क्षेत्र में घुसपैठ कर लेता है। यहां खराब बुनियादी ढांचे के चलते भारतीय सेना कुछ कर पाने में लाचार महसूस करती है। यहां तक कि बॉर्डर के इन इलाकों में बुनियादी सड़कें भी मौजूद नहीं हैं और यही वजह है कि चीन की सलामी स्लाइसिंग की रणनीति यहां और कारगर हो जाती है। चीन ने अपनी सेना के लिए तिब्बत में रेलवे का नेटवर्क, हाइवे, सड़कें, एयरबेस, रेडार और अन्य बुनियादी ढांचा तैयार कर रखा है। इसके अलावा यहां चीन ने सेना के 30 डिविजन (सभी में 15,000 से ज्यादा सैनिक) तैनात कर रखे हैं। इनमें 5-6 रैपिड रिऐक्शन फोर्सेज भी शामिल हैं।

Loading...

भारत इस मामले में चीन से काफी पीछे है। 15 साल पहले एलएसी पर कुल 73 सड़कें (4,643 किलोमीटर) बनाने की योजना बनाई गई थी, लेकिन इनमें से केवल 27 सड़कें ही तैयार हो पाई हैं। इतना ही नहीं, लंबे वक्त से प्रस्तावित 14 ‘रणनीतिक रेलवे लाइन्स’ बिछाने का काम भी अभी तक शुरू नहीं हो पाया है।

सेना प्रमुख चीफ बिपिन रावत ने हाल ही में चीन की इस रणनीति के खिलाफ आगाह किया था। उन्होंने कहा था, ‘जहां तक उत्तर में चीन का सवाल है तो उसने अपनी ताकत दिखानी शुरू कर दी है। सलामी स्लाइसिंग का मतलब है धीरे-धीरे भूभाग पर कब्जा करना, और हमारी सहने की क्षमता को परखना।’ रावत ने कहा था कि यह चिंता का विषय है और इस प्रकार की परिस्थितियों से निपटने के लिए के लिए तैयारी जरूरी है, जिनसे भविष्य में टकराव पैदा हो सकता है।

बॉर्डर के इलाकों में बुनियादी ढांचे के विकास से न केवल चीन की भारत में बढ़ती घुसपैठ को रोका जा सकेगा बल्कि विवादित इलाकों पर उसका दावा भी कमजोर होगा।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *