Breaking News

जब नामी लेखक ने अनोखे अंदाज में गर्लफ्रेंड को किया प्रपोज

perposeमुंबई। मुंबई में रहने वाले 29 साल के नामी रोमांटिक लेखक दुर्जय दत्त ने अपनी रियल स्टोरी में बड़ा ही मॉडर्न, अनोखा लेकिन खूबसूरत ट्विस्ट दिया। दुर्जय दत्त की किताबों में आज के समय का प्यार झलकता है। महज 29 साल की उम्र में अब तक वह 13 किताब लिख चुके हैं। रोमांटिक लेखक होने के नाते उनकी बहुत बड़ी फीमेल फैन फॉलोइंग भी है। इसके साथ ही वह बेस्ट सेलर किताबों के लेखक होने का गौरव भी प्राप्त कर चुके हैं। किताबों में कई प्रेम कहानियां लिख चुके दुर्जय ने अपनी रियल लव लाइफ में अपनी गर्लफ्रेंड को ट्विटर पर प्रपोज किया लेकिन एकदम अनोखे और खूबसूरत अंदाज में।

दुर्जय ने अपने माता-पिता, नन्हे भतीजे और भांजे की तस्वीरें #marrymeavantika के साथ ट्विटर पर शेयर कीं, जिसमें उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड अवंतिका को शादी के लिए प्रपोज किया। इसके बाद तो ट्विटर पर #marrymeavantika ट्रेंड करने लगा। दुर्जय के फैन्स ने उनका भरपूर साथ दिया और अवंतिका को उनसे शादी करने के लिए हां करने को कहा।

दिलचस्प बात यह है कि जब ट्विटर पर यह सब चल रहा था तब दुर्जय के प्यार अवंतिका को इसकी खबर भी नहीं थी। अवंतिका मोहन उस समय बतौर एयरहोस्टेस अमीरात की एक फ्लाइट में थी। वह इस बात से एकदम बेखबर थीं कि ट्विटर पर उनके लिए प्रेम प्रस्तावों की लड़ी लग गई है।

दुर्जय ने ट्विटर पर लिखा कि वह एक लड़की से प्यार करते हैं, जिसका नाम अवंतिका है। उन्होंने लिखा कि वह इस समय एक फ्लाइट में है जो दो घंटे बाद लैंड करेगी। इसके बाद उन्होंने अपने फैन्स से रिक्वेस्ट की कि वे अवंतिका को उनसे शादी करने के लिए मनाएं।

दुर्जय ने बताया कि उसने मुझे कन्वेयर बेल्ट से कॉल किया। इस समय तक मेरे ट्वीट्स का असर उनके रिस्पॉन्स में आ गया था। उसने पूछा, तुमने क्या किया है? मुझे उसे शांत कराना पड़ा। जब वह टर्निनल से निकली तो वह अपने जवाब के साथ तैयार थी, ‘बेशक, मैं तुमसे प्यार करती हूं।’

दुर्जय दत्त की पहली किताब का नाम भी यही था, ‘ऑफकोर्स, आई लव यू’। इस किताब की 50 हजार प्रतियां बिकी थीं और यह एक हिट किताब थी। दुर्जय ने हंसते हुए कहा कि मैं बहुत खुश हूं कि वह अपने ‘जब तक कि मुझे कोई बेहतर नहीं मिल जाता’ वाले टैगलाइन से बाहर आ गई है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *