Breaking News

मियां की दौड़ मस्जिद तक: PAK के UN में कश्मीर मसला उठाने पर बोला भारत

यूनाइटेड नेशंस/दिल्ली। पाकिस्तान ने यूनाइटेड नेशंस (UN) में फिर कश्मीर मसला उठाने की बात कही है। इस पर भारत के टॉप डिप्लोमैट सैयद अकबरुद्दीन ने कहा, “वर्ल्ड बॉडी में जिस मुद्दे पर चर्चा दशकों से नहीं हुई है, वहां इस्लामाबाद का कश्मीर इश्यू उठाने का फैसला ऐसे ही है, जैसे मियां की दौड़ मस्जिद तक।’ अकबरुद्दीन UN में भारत के परमानेंट रिप्रेजेंटेटिव हैं।
भारत प्रोग्रेसिव एजेंडा पर फोकस कर रहा है- अकबरुद्दीन
UN की जनरल असेम्बली सेशन में भारत के एजेंडे पर सैयद अकबरुद्दीन ने कहा, “भारत प्रोग्रेसिव और फॉरवर्ड लुकिंग एजेंडा पर काम कर रहा है। हमने हमारी अप्रोच का खाका खींचा है, जो प्रोग्रेसिव है। हम अपने लक्ष्यों को लेकर चल रहे हैं। दूसरी तरफ ऐसे देश हैं, जो बीते हुए कल के मुद्दों की बात कर रहे हैं तो वे बीते हुए कल के ही लोग हैं।”
23 को UN में स्पीच देंगी सुषमा
अकबरुद्दीन ने कहा, “अगर पाकिस्तान का फोकस ऐसे मुद्दे पर है, जो यूएन की टेबल पर कई दशकों से नहीं रखा गया। अगर वे ऐसा ही चाहते हैं तो फिर ऐसा ही सही। पाकिस्तान के नए प्राइम मिनिस्टर शाहिद खाकन अब्बासी यूएन की जनरल असेम्बली सेशन में इसी हफ्ते स्पीच देंगे। PAK विदेश मंत्रालय ने कहा है कि अब्बासी यूएन में कश्मीर का मुद्दा उठाएंगे।
भारत ने पहले भी कहा- किसी को दखल का हक नहीं
इससे पहले मुस्लिम देशों के संगठन ऑर्गनाइजेशन ऑफ द इस्लामिक कोऑपरेशन (OIC) की ओर से पाकिस्तान ने यूएन में कश्मीर का मसला उठाया था। भारत ने तब भी कहा था कि कश्मीर हमारा अभिन्न हिस्सा है। लिहाजा OIC को भारत के अंदरूनी मामलों में दखल का कोई हक नहीं है। यूएन में भारत की ओर से भारत के फर्स्ट सेक्रेटरी डॉ. सुमित सेठ ने कहा था, “भारत को अफसोस है कि OIC ने अपने बयान में भारत के अभिन्न और अविभाजित राज्य जम्मू-कश्मीर से जुड़े गलत फैक्ट्स शामिल किए हैं। भारत ऐसे बयान को पूरी तरह खारिज करता है। OIC को भारत के अंदरूनी मामलों में दखल करने का कोई हक नहीं है।”
UN में डिबेट के दौरान भी दिया था करारा जवाब
यूनाइटेड नेशंस में डिबेट के दौरान इंडियन डिप्लोमैट श्रीनिवास प्रसाद ने आतंकवाद को देश की पॉलिसी के टूल के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए पाकिस्तान की निंदा की थी। भारत ने कहा कि पाकिस्तान ‘कल्चर ऑफ पीस’ के नाम पर यूनाइटेड नेशंस में जम्मू और कश्मीर का मसला उठाता है, जबकि सभी जानते हैं कि PAK आतंकवादियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह है।
UN में क्या कहा पाकिस्तान ने?
यूएन के कल्चरल फोरम में डिबेट के दौरान गुरुवार को पाकिस्तान के परमानेंट रिप्रेजेंटेटिव मलीहा लोधी ने कश्मीर का मसला उठाया था। मलीहा लोधी ने कहा, “यहां पर बहुत अरसे से लटके पड़े मसले भी हैं, जिनमें किए गए अन्याय को अब ठीक किए जाने की जरूरत है। यहां लोगों को अभी भी उनकी इच्छा के अनुसार, जीने के मौलिक अधिकार नहीं दिए जा रहे हैं।”
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *