Breaking News

जाट आंदोलन : दिल्ली में धारा 144 लागू…

नई दिल्ली। जाटों के दिल्ली में प्रदर्शन करने से पहले ही केन्द्र सरकार ने दिल्ली और इसके पड़ोसी राज्यों की पुलिस को आंदोलनकारियों को राष्ट्रीय राजधानी की सीमा पर पहुंचने से पहले ही रोकने का आदेश दिया है, आधिकारिक सूत्रों का दावा है कि होमं मिनिस्ट्री ने एक परामर्श में दिल्ली पुलिस और हरियाणा समेत यूपी और राजस्थान की सरकारों को जाट प्रदर्शनकारियों को दिल्ली में पहुंचने से रोकने के लिये धारा 144 लगाने को कहा है। आपको बता दें कि जाट प्रदर्शनकारियों ने नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में रिजर्वेशव की मांग को लेकर दिल्ली में प्रदर्शन करने की धमकी दी है।

एडवायजरी में कहा गया है कि प्रदर्शनकारियों को दिल्ली में पहुंचने से पहले ही गिरफ्तार कर लिया जाये, या फिर हिरासत में ले लिया जाए, प्रदर्शनकारियों की बसों को राजमार्गो पर आने की अनुमति ही ना दी जाए और ट्रैक्टर ट्रॉली की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया जाए। मालूम हो कि अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने अपनी मांगों को लेकर जोर देने के लिये 20 मार्च से संसद का घेराव करने की बात कही थी, होम मिनिस्ट्री के शीर्ष अधिकारियों ने जाटों की धमकी के मद्देनजर दिल्ली और पड़ोसी राज्यों की सुरक्षा हालत की समीक्षा भी की है, होम सेक्रेटरी राजीव महर्षि ने दिल्ली, हरियाणा, यूपी और राजस्थान में कानून-व्यवस्था की स्थिति का बुधवार को जायजा लिया था।

राजीव महर्षि ने अधिकारियों को निर्देश दिया था कि प्रदर्शन के दौरान शांति सुनिश्चिक करने और जनजीवन में खलल की कोशिशों की रोकने की कोशिश की जाए, जाट आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक ने कहा कि जाट अपने ट्रैक्टर ट्रॉली और छोटे वाहनों के साथ दिल्ली के लिये निकले हैं, इसके साथ ही उन्होने दावा करते हुए कहा कि हम कम से कम 10 दिनों का राशन लेकर पड़ोसी राज्यों से राजमार्गो के जरिये Delhi की ओर मार्च करेंगे। आपको बता दें कि जाट आरक्षण की मांग को लेकर 20 मार्च को Delhi घेराव की वजह से मेट्रो का परिचालन भी आंशिक तौर पर प्रभावित रहेगा। दिल्ली पुलिस ने डीएमआरसी से 20 मार्च को दिल्ली सीमा से बाहर एनसीआर, यानि नोएडा, गुड़गांव, फरीदाबाद, और गाजियाबाद में मेट्रो परिचालन करने को नहीं कहा है।

Loading...

दिल्ली मेट्रो के एक अधिकारी ने जानकारी दी कि Delhi Police के अनुरोध के बाद आज रात 11.30 बजे से मेट्रो का परिचालन सिर्फ Delhi तक ही सीमित रहेगा, इसके साथ ही केन्द्रीय सचिवालय, पटेल चौक और राजीव चौक समेत मध्य दिल्ली के 12 स्टेशन रविवार रात 8 बजे से अगले आदेश तक बंद रहेंगे। जाट आंदोलन को देखते हुए कानून व्यवस्था की स्थिति को बरकरार रखने के लिये ये फैसला लिया गया है। आपको बता दें कि जाट सरकारी नौकरियों के साथ शैक्षणिक संस्थानों में रिजर्वेशन की मांग के साथ समुदाय के कई युवाओं के खिलाफ आपराधिक मुकदमे वापस लेने की मांग कर रहे हैं, वो जेल में बंद लोगों को रिहा करने और पिछले साल आंदोलन में मारे गए लोगों के निकट परिजनों को मुआवजा देने की मांग कर रहे हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *