Tuesday , June 15 2021
Breaking News

राज्यपाल का फरमान, मणिपुर के मुख्यमंत्री तुरंत इस्तीफा दें

इंफाल। मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने कांग्रेस के निवर्तमान मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह से तुरंत इस्तीफा देने को कहा है ताकि अगली सरकार के गठन की प्रक्रिया शुरू हो सके। राजभवन के एक उच्च पदस्थ सूत्र ने बताया, इबोबी सिंह ने उपमुख्यमंत्री गायखमगम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष टीएन होकिप के साथ कल रात राज्यपाल से मुलाकात की थी. राज्यपाल ने सिंह से तुरंत इस्तीफा देने के लिए कहा ताकि वह सरकार गठन की प्रक्रिया शुरू कर सकें। सूत्र ने कहा कि नियमों के मुताबिक, जब तक मौजूदा मुख्यमंत्री इस्तीफा नहीं दे देते हैं, तब तक अगली सरकार के गठन की प्रक्रिया शुरू नहीं हो सकती है। राजभवन के सूत्र ने बताया कि मुलाकात के दौरान इबोबी सिंह ने कांग्रेस के 28 विधायकों की सूची दिखाकर अगली सरकार बनाने का दावा पेश किया। उन्होंने नेशनल पीपल्स पार्टी (एनपीपी) के चार विधायकों के समर्थन का भी दावा किया।
राजभवन के सूत्र ने बताया कि मुलाकात के दौरान इबोबी सिंह ने कांग्रेस के 28 विधायकों की सूची दिखाकर अगली सरकार बनाने का दावा पेश किया। उन्होंने नेशनल पीपल्स पार्टी (एनपीपी) के चार विधायकों के समर्थन का भी दावा किया। उन्होंने कहा कि साधारण कागज पर एनपीपी के चार विधायकों का नाम देखकर हेपतुल्ला ने इबोबी सिंह से एनपीपी अध्यक्ष और विधायकों को लाने को कहा।
सूत्र ने बताया कि राज्यपाल ने कहा कि दावे को क्रॉस चेक करना उनका कर्तव्य है और वह साधरण कागज के टुकड़े को ‘समर्थन पत्र’ के तौर पर स्वीकार नहीं करेंगी जब तक वह एनपीपी विधायकों से मिल नहीं लेतीं.
भाजपा नेतृत्व ने अपने 21 विधायकों, एनपीपी के अध्यक्ष और पार्टी के चार विधायकों, कांग्रेस के एक, लोजपा के एक और तृणमूल के एक विधायक के साथ राज्यपाल से मुलाकात की थी। भाजपा ने दावा किया था कि उसके पास 60 सदस्यीय विधानसभा में 32 विधायकों का समर्थन है। सरकार बनाने के लिए 31 विधायकों का समर्थन चाहिए।
नेशनल पीपल्स पार्टी के नेता कोनराड संगमा का इनकार : एनपीपी (नेशनल पीपल्स पार्टी) के नेता कोनराड संगमा का दावा है कि कांग्रेस ने राज्यपाल को जो समर्थन का पत्र दिया है, वह फर्जी है। एनपीपी के चार विधायक कांग्रेस को समर्थन नहीं दे रहे हैं।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *