Breaking News

रिश्वत केस में प्रशांत भूषण ने की जस्टिस खेहर को सुनवाई से अलग करने की मांग, SC नाराज

prashantbhushanनई दिल्ली। वकील प्रशांत भूषण ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में यह कहकर खलबली मचा दी कि अगले मुख्य न्यायाधीश बनने वाले जस्टिस जेएस खेहर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कथित तौर पर रिश्वत लेने संबंधी जनहित याचिका की सुनवाई से खुद को अलग कर लेना चाहिए। भूषण ने कहा कि चूंकि जस्टिस खेहर की औपचारिक नियुक्ति वाली फाइल प्रधानमंत्री को ही क्लियर करनी है, ऐसे में जस्टिस खेहर को सुनवाई से अलग हो जाना चाहिए।

प्रशांत भूषण ने यह बात तब कही तब वह जस्टिस खेहर और जस्टिस अरुण मिश्रा को इस बात के लिए राजी करने में नाकाम रहे कि उन्हें याचिका में प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ लगाए गए रिश्वत लेने के आरोप के समर्थन में विश्वसनीय सबूत जमा करने के लिए और वक्त दिया जाए।

भूषण की इस बात ने अदालत में सभी को चौंका दिया। नाराजगी जताते हुए जस्टिस खेहर ने कहा, ‘यह बहुत गलत है कि आप अब यह मुद्दा उठा रहे हैं। अगर आपको मुझ पर भरोसा नहीं था तो पहले कहना चाहिए था। इसके पहले भी दो तारीखों पर सुनवाई हो चुकी है, पर आप अब यह मुद्दा क्यों उठा रहे हैं?’ इसके बाद जस्टिस खेहर ने खुद को सुनवाई से अलग करने की इच्छा जताई।
प्रशांत भूषण ने कहा, ‘मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं कि कभी कभी न्यायालय के अधिकारी के तौर पर हमें वह काम भी करना पड़ता है जो हमें नापसंद हो, पर मुझे कोई परेशानी नहीं होगी अगर अदालत मुझे आगे बढ़ने के लिए कहे।’ यह बात भूषण ने तब कही जब जस्टिस खेहर और जस्टिस मिश्रा ने उन्हें सबूत जमा करने के लिए और वक्त देने संबंधी आग्रह को मानने से इनकार कर दिया।

Loading...

इस दौरान जस्टिस मिश्रा काफी नाराज दिखे। उन्होंने यहां तक कह दिया कि भूषण का व्यवहार अदालत की अवमानना करने जैसा है। उन्होंने कहा कि ऐसे मुद्दे उठा कर कोर्ट को दबाव में नहीं लाया जा सकता। उन्होंने भूषण से कहा, ‘ आप हमारी संवैधानिक कार्यशैली पर शक कर रहे हैं, यह अवमानना के बराबर है।’

वहीं अटर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि यह सुनवाई में देर करने के लिए अपनाया गया सबसे ‘ओछा हथकंडा’ है। इस पर जस्टिस खेहर रोहतगी से कहा कि वह ऐसी भाषा का इस्तेमाल न करें। रोहतगी ने कहा, ‘मैं आहत हूं और मैं अपना गुस्सा कोर्ट के अंदर और बाहर जाहिर करूंगा।’ हालांकि भूषण ने बाद में कहा कि अगर जस्टिस खेहर सुनवाई में बने रहते हैं तो भी उन्हें कोई समस्या नहीं होगी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *