Saturday , February 27 2021
Breaking News

7th Pay Commission: इस फॉर्मूले से बढ़ेगी आपकी सैलरी, लगेगी आखिरी मुहर

imagesलखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के ऐन पहले 27 लाख कर्मचारियों और पेंशनरोंको सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों का लाभ मिलेगा।चुनाव के इस मौसम में फील गुड का माहौल बनाने में लगी अखिलेश सरकार सातवें वेतन पर बनी समिति की सिफारिशों पर मंगलवार को मुहर लगा सकती है, ताकि सरकारी कर्मचारियों और पेंशनधारियों का ये तोहफा कहीं चुनाव आचार संहिता के चक्कर में न फंस जाए।
जितना बड़ा ओहदा, उतना ज्यादा फायदा
सातवें वेतन आयोग के आधार पर राज्य वेतन समिति ने सूबे के कर्मचारियों को लेकर जो सिफारिशें की हैं, उनके अनुसार जिसका ओहदा जितना बड़ा होगा, उसे फायदा भी उतना ही अधिक होगा। तमाम शिकवा शिकायतों के बावजूद नई वेतन मैट्रिक्स ने हर वर्ग के कर्मचारियों को मुस्कुराने का मौका दिया है। हर अफसर और कर्मचारी को एक ही फार्मूले पर साधने की कोशिश की गई है। सर्वाधिक वेतन वृद्धि 8,850 रुपए की हो सकती है, जबकि सबसे कम वृद्धि 2,250 रुपए की होने की संभावनी है। राज्य वेतन समिति की सिफारिशों पर आखिरी फैसला सीएम अखिलेश यादव की अध्यक्षता वाली प्रदेश कैबिनेट मंगलवार को करेगी। आपको बता दें कि राज्य वेतन समिति की सिफारिशों पर अगर कैबिनेट की मुहर लगती है तो इसका फायदा 27 लाख कर्मचारियों और पेंशनरों को होगा। ये सिफारिशें 1 जनवरी, 2016 से लागू होंगी।
 एसडीएम को होगा सबसे ज्यादा फायदा
प्रांतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी सबसे बड़े ओहदेदार माने जाते हैं। इस सेवा में डिप्टी कलेक्टर पहले पायदान पर आते हैं। वेतन समिति की सिफारिशें स्वाकीर होने के बाद एसडीएम से सेवा शुरू कर रहे कर्मचारियों को सबसे ज्यादा 8,850 रुपए प्रतिमाह का फायदा होगा। नई वेतन मैट्रिक्स में मौजूदा 15,600 रुपए वेतनमान और 5,400 ग्रेड पे के लिए पहला स्लैब 56,100 रुपए है। फॉर्मूले से प्राप्त रकम पहले स्लैब से कम है। नियम के मुताबिक वेतन मैट्रिक्स में पहले लेबल के स्लैब का वेतन 56,100 रुपए बनेगा।
  • नया वेतन- 56,100
  • फायदा: नई मैट्रिक्स में वेतन-पुराना वेतन
  • यानी: 56100-47250= 8850
प्राइमरी टीचर को 5,025 रुपए का होगा फायदा
प्रदेश में शिक्षक और शिक्षणोत्तर कर्मियों की तादात 5.50 लाख से ज्यादा है। इनमें प्राथमिक शिक्षकों की संख्या सबसे ज्यादा है। वेतन समिति की सिफारिशें स्वाकीर होने के बाद प्राइमरी टीचर को 5,025 रुपए का होगा फायदा।
  • नया वेतन- 35400
  • फायदा: नई मैट्रिक्स में वेतन-पुराना वेतन
  • यानी: 35400-30375= 5025
इनको भी होगा फायदा
वेतन समिति की सिफारिशें स्वाकीर होने के बाद सहायक समीक्षा अधिकारी को 6,335 रुपए का फायदा होगा। वहीं राज्य कर्मचारियों में 6,460 रुपए वेतनमान और 2,000 ग्रेड पे पर कार्यरत कर्मियों को करीब 3,365 रुपए का फायदा होने का संभावना है। यूपी में चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की तादात भी अच्छी खासी है। लेकिन ग्रामीण सफाई कर्मी के पद पर 5,200 रुपए वेतनमान और 1,800 ग्रेड पे में कार्यरत कर्मियों की बात करें तो इन्हें सिर्फ 2,250 रुपए की ही फायदा होगा।
नए वेतन का फार्मूला़
नए वेतन के लिए वर्तमानवेतन बैंड के वेतनमान और ग्रेड पे को जोड़कर 2.57 से गुणा किया जाएगा। इससे प्राप्त राशि नए वेतन मैट्रिक्स में स्लैब के हिसाब से तलाशी जाएगी। अगर इस राशि के बराबर राशि पूरे स्लैब में उप्लब्ध नहीं है तो उसे ही संसोधित वेतन मान लिया जाएगा। नहीं तो उस लेबल में अगले स्लैब को स्वीकार किया जाएगा।
  • नया वेतन फार्मूला: (वेतन बैंड में वेतन+ग्रेड पे) x 2.57
  • पुराना वेतन फार्मूला: वर्तमान वेतनमान + ग्रेड पे + (वेतनमान व ग्रेड पे के जोड़ का 125 प्रतिशत महंगाई भत्ता)
 नए वेतन में भत्ते शामिल नहीं
नए वेतन में भत्तों को शामिल नहीं किया गया है। गणना से प्राप्त वृद्धि शुद्ध रूप से वेतन में वृद्धि होगी। नए वेतन के साथ कर्मचारी पहले की तरह भत्ते व अन्य सुविधाएं पाते रहेंगे। पुराने वेतन का मतलब वेतनमान व ग्रेड पे का जोड़ है। गणना में सभी पदों के एंट्री लेवल को लिया गया है। इसी हियाब से कर्मी अपने लाभ की गणना कर सकते हैं। राज्य वेतन समिति ने केंद्र सरकार के नए वेतन निर्धारण के फॉर्मूले को हूबहू स्वीकार करने की सिफारिश की है। आठ वेतन बैंड और 14 ग्रेड पे में तैयार नई वेतन मैट्रिक्स में कर्मी को अपने फायदे तलाशने के लिए 40 लेबल में घूमना पड़ेगा।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *